MP Weather Update: मप्र के इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, ऑरेंज-येलो अलर्ट

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में हो रही लगातार मूसलाधार बारिश ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। प्रदेश के 12 जिलों के 412 गांवों को बाढ़ ने बुरी तरह से प्रभावित किया है।पिछले 48 घंटों की बारिश से कई इलाके जलमग्न हो गए हैं। फसलें पूरी तरह पानी में डूब गई हैं। होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, छिंदवाड़ा, रायसेन, सीहोर, नरसिंहपुर, देवास सहित अन्य जिलों के खेत पानी में डूब गए हैं। इसी कड़ी में मौसम विभाग ने आज रविवार को फिर एक साथ ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किया है।

मौसम विभाग ने रविवार को भी प्रदेश में छिंदवाड़ा, विदिशा, सीहोर, राजगढ़ और शाजापुर जिलों के अलग-अलग स्थानों पर गरज और बारिश की चेतावनी दी है। वही भारतीय मौसम विभाग ने (India Met Department) मध्य प्रदेश, यूपी, हरियाणा समेत कई राज्यों में विभिन्न इलाकों में बारिश की संभावना जताई है।मौसम विभाग ने अलीराजपुर, झाबुआ और अलीराजपुर जिलों में ऑरेंज अलर्ट और रतलाम, नीमच, धार, उज्जैन, मंदसौर जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है। विभाग ने होशंगाबाद, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, चंबल-ग्वालियर, शहडोल, रीवा, सागर, जबलपुर संभागों में गरज चमक के साथ वर्षा की बौछारों की संभावना जताई है।

दरअसल, मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा बाढ़ ने होशंगाबाद जिले में तबाही मचाई है, यहां बीते 24 घंटे में 340.4 मिमी बारिश हो चुकी है, लगातार भारी बारिश और तवा, बारना, बरगी बांध से पानी छोड़े जाने से नर्मदा नदी में बाढ़ की स्थिति बन रही है। प्रदेश में बाढ़ से निपटने के लिए सेना के पांच हैलीकॉप्टर बुलाए गए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को फिर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा किया है। इंदिरा सागर बांध में लगातार बढ़ रहे जलस्तर के कारण 20 गेट खोलकर बांध से 31 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। ओंकारेश्वर बांध के भी 21 गेट खुले हुए हैं। पूरे क्षेत्र में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है। जलस्तर बढ़ने से मंडलेश्वर स्थित शिव मंदिर की सीढ़ियां जलमग्न हो गई हैं। 106 फीट ऊंचा मोरटक्का पुल रात 11 बजे डूब गया, जो अब भी जलमग्न है। हालात को देखते हुए होमगार्ड समेत पुलिस के 300 से ज्यादा जवानों को तैनात किया गया है।खंडवा-भोपाल मार्ग स्थित नर्मदानगर के पुल से भी सुबह 7 बजे आवागमन बंद कर दिया गया था। मंदसौर जिले की बात करे तो शिवना नदी ने सीजन में दूसरी बार रविवार को पशुपतिनाथ का जलाभिषेक किया। उज्जैन में शिप्रा के रौद्र रूप से घाट किनारे सभी मंदिर जलमग्न हो गए हैं। देवास में कालीसिंध तो शाजापुर में लखुंदर और पार्वती नदी ने अपना विकराल रूप धारण कर रखा है। शाजापुर में 5 इंच से ज्यादा बारिश होने से लाइफ लाइन कहे जाने वाला चीलर बांध लबालब होने से मात्र तीन फीट दूर है। अब तक बांध में 21 फीट पानी आ चुका है। वहीं, निचली बस्तियों में पानी भरने से नाव से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। देवास में भी कालीसिंध पूरे उफान पर है।भोपाल में इस सीजन की बारिश का कोटा पूरा हो चुका है। दो दिन की मूसलाधार बारिश के बाद शहर के हालात बिगड़ गए थे और कई इलाकों में पानी भर गया था। कुछ काॅलोनियों में नावें चलीं, लोगों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया। पिछले 14 साल में हुई सबसे ज्यादा बारिश का रिकॉर्ड टूट गया। अब तक इस सीजन में भोपाल में 1110 मिली पानी बरस चुका है। इससे 2006 में 900 मिली से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई थी।

पीएम ने मोदी से की चर्चा, सेना संभालेगी मोर्चा
मुख्यमंत्री ने आज रविवार सुबह प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) से बात कर प्रदेश की बाढ़ की स्थिति से अवगत करवाया है। बाढ़ में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के लिए मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से 5 हेलीकाप्टर की मांग भी की है।प्रदेश में बाढ़ की स्थिति के बारे मे बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश के 12 जिलों के 412 गांवों बाढ़ से बुरी तरह से प्रभावित है। होशंगाबाद के कई इलाकों में पानी भरा हुआ है, कई नगर नर्मदा नदी की चपेट में है। रात भर जो रेस्क्यू ऑपरेशन चले उसमे लगभग 8 हज़ार के आस पास लोगों की जाने बचाई गई है। सीहोर जिले के नरेला में पेड़ पर बैठे हुए पंचों लोग रात में 2:30 बजे सुरक्षित निकाल दिए गए है।सरकार नुकसान का आकलन करने के बाद फसल की क्षति का मुआवजा राजस्व पुस्तक परिपत्र और फसल बीमा के माध्यम से दिलवाएगी। पिछले दिनों तेज हवाओं के साथ हुई बारिश से नरसिंहपुर जिले में गन्ने की फसल खेत में ही गिर गई। इसमें किसानों का नुकसान होना तय है। इसी तरह छिंदवाड़ा और बैतूल में मक्का की फसल प्रभावित हुई है।

पिछले चौबीस घंटे में बारिश का रिकॉर्ड

पिछले चौबीस घंटों में बीते 24 घंटे में होशंगाबाद शहर में 340.4 मिमी ,डोलरिया में 120 मिमी, इटारसी में 107.4 मिमी, पिपरिया में 105.8 मिमी, सोहागपुर में 103.4 मिमी, भोपाल के बैरागढ़ में 112 मिमी, भोपाल शहर में 93.1 मिमी, कोलार में 69.8 मिमी, नवीबाग में 62.8 मिमी, बैरसिया में 55.1 मिमी, रायसेन के सुल्तानपुर में 103 मिमी, बाड़ी में 85 मिमी, विदिशा के ग्यारसपुर में 102 मिमी, लटेरी में 86 मिमी, इंदौर के देपालपुर में 167.7 मिमी, सांवेर में 104.4 मिमी, गौतमपुरा में 87.5 मिमी, सीहोर के बुधनी में 276 मिमी, इछावर में 267 मिमी, रेहटी में 266 मिमी, जावर में 228 मिमी, नसरुल्लागंज में 215 मिमी, आष्टा शहर में 202 मिमी, श्यामपुर में 142 मिमी, उज्जैन के महिदपुर में 257 मिमी, घट्टिया में 253 मिमी, तराना में 190 मिमी, नागदा में 140 मिमी, खाचरौद में 132 मिमी, देवास के सोनकच्छ में 208 मिमी, खातेगांव में 197 मिमी, हटपीपल्या में 192 मिमी, टोंकखुर्द में 186 मिमी, कन्नौद में 171 मिमी।आगर के बड़ौद में 220 मिमी रतलाम के पिपलौदा में 204 मिमी, सैलाना में 203 मिमी बारिश हुई है।

Rainfall dt 30.08.2020
(Past 24 hours)
Hoshangabad 340.4
Ratlam 135.0
Ujjain 121.0
Shajapur 135.0
Bhopal 112.0
Bhopal city 93.1
Khandwa 62.0
Raisen 82.8
Khargone 29.6
Betul 16.0
Dhar 27.8
Narsinghpur 24.0
Seoni 27.6
Mandla 6.0
Tikamgarh 8.0
Khajuraho 1.0
Chhindwara 20.2
Damoh 19.0
Sagar 2.8
Jabalpur 12.6
Guna 13.5
Indore 73.2
Satna 1.7
Gwalior 12.9

Pachmarhi 83.8mm

MP Weather Update: मप्र के इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, ऑरेंज-येलो अलर्ट