MP Weather: अगस्त में झमाझम की उम्मीद, इन जिलों में आज भारी बारिश के आसार

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट।
अगस्त महिने की शुरुआत होने वाली है, ऐसे में प्रदेश में अच्छी बारिश होने की उम्मीद है।मौसम विभाग की माने तो 31 जुलाई से मध्य प्रदेश के ज़्यादातर जिलों में बारिश की गतिविधियां बढ़ेंगी बारिश का यह सिलसिला 31 जुलाई से 5-6 अगस्त तक यानी तकरीबन 1 सप्ताह तक लगातार जारी रहेगा। आज शुक्रवार को भी मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। विभाग ने प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

मौसम विभाग की माने तो अगले 1 सप्ताह तक जबलपुर, मंडला, बालाघाट, इंदौर, उज्जैन, रतलाम, देवास, भोपाल, शिवपुर, शिवपुरी, गुना, ग्वालियर, दतिया, भिंड, मुरैना, छतरपुर, सागर, सतना, रीवा, कटनी, शहडोल समेत तमाम जिलों में रुक-रुक कर कई जगहों पर हल्की से मध्यम और कुछ स्थानों पर भारी वर्षा की गतिविधियां होती रहेंगी जिससे खेती को व्यापक फायदा होगा और बारिश के आंकड़ों में भी सुधार देखने को मिल सकता है।वर्तमान समय में स्थितियां अच्छी बारिश के अनुकूल बन रही हैं। अगले 1 सप्ताह में मध्य प्रदेश के 20 जिलों में बारिश की संभावना है। यानी कि ईद और रक्षाबंधन के त्यौहार के अवसर पर मध्य प्रदेश के लगभग आधे इलाकों में बारिश होगी।

विभाग की माने तो आंध्र तट पर 31 जुलाई को एक ऊपरी हवा का चक्रवात बनने के संकेत मिले हैं। इस सिस्टम के कम दबाव का क्षेत्र बनकर आगे बढ़ने पर अगस्त की शुरुआत में अच्छी बरसात की उम्मीद की जा रही है। तापमान में इजाफा होने पर कहीं-कहीं स्थानीय स्तर पर बौछारें पड़ जाती हैं। 9 साल में पहली बार है जब 20 जुलाई तक इतनी कम बारिश मध्य प्रदेश में हुई है। प्रदेश के 15 जिलों में सामान्य से काफी कम वर्षा दर्ज की गई है। 15 जिलों में बारिश सामान्य से काफी कम होने के कारण फसलों पर विपरीत असर पड़ने की आशंका बढ़ गई है।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर , पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान के उत्तरी व पूर्वी भाग, उत्तर प्रदेश, बिहार से लेकर असम तक आज अच्छी वर्षा का अनुमान है। इस दौरान मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और पश्चिमी तटों पर भी मानसून सक्रिय रहेगा और झमाझम वर्षा देखने को मिलेगी।

बारिश को तरसे ये जिले, किसानों को सताने लगी है चिंता
मध्य प्रदेश के 20 जिलों में अभी सामान्य से कम बारिश हुई है। प्रदेश में जहाँ सिंगरौली जिले में सबसे ज्यादा तो ग्वालियर में सबसे कम बारिश रिकॉर्ड हुई है। पूरे प्रदेश में इस साल फिलहाल 314.6 मिलीमीटर बारिश हुई है। मानसून की धीमी रफ्तार और बारिश के थमने से किसानों में चिंता का माहौल है। प्रदेश के 13 जिलों में संकट के बादल मंडरा रहे हैं। जहां हर साल जुलाई और अगस्त के महीने में सबसे अधिक बारिश होती है। वहीं इस बार जुलाई बीतने को है लेकिन सामान्य से कम बारिश हुई है। ऐसे में खरीफ की फसल बरबाद होने की कगार पर है।

इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी
विदिशा, छिंदवाड़ा, बालाघाट, दमोह, सागर, टीकमगढ जिलों में भारी बारिश की चेतावनी है, वही रीवा, सागर, शहडोल,होशंगबादा, इंदौर, उज्जैन , जबलपुर, भोपाल, ग्वालियर, चबंल संभागों में गरज चमक के साथ बारिश के आसार है।

Rainfall dt 31.07.2020
(Past 24 hours)
Ujjain 20.6
Guna 3.2
Damoh 4.0
Indore 5.8
Pachmari 3.8
Tikamgarh 2.0
Dhar 2.2 mm

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here