भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल नगर निगम में एक कर्मचारी तीन हज़ार की रिश्वत लेते धराया है। भोपाल लोकायुक्त ने नगर निगम के जीएडी विभाग में पदस्थ कर्मचारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों मुख्यालय में पकड़ा। कर्मचारी लेखा शाखा में काम करने के बादले तीन हज़ार रुपए रिश्वत मांग रहा था। जिसमें से फरियादी एक हज़ार पहले दे चुका था। दो हज़ार रुपए देने बुधवार को गया था।

नगर निगम के लेखा शाखा में पदस्थ लेखा लिपिक सहा ग्रेड 3 शमीमुद्दीन पिता सैदुद्दिन ने निगम के ही एक सफाई कामगार से काम के बदले 3 हजार रूपए की रिश्वत मांगी थी। सफाई कामगार ने रिश्वत के एक हजार रूपए देकर रिकार्डिंग कर ली और लोकायुक्त से इसकी शिकायत कर दी। बुधवार को सफाई कामगार रिश्वत के दो हजार रूपए लेकर माता मंदिर स्थित निगम मुख्यालय पहुंचा और शमीमुद्दी को यह रूपए दिए। तभी पीछे से आई लोकायुक्त की टीम ने रिश्वत लेते हुए शमीमुद्दीन को रंगे हाथों पकड़ लिया। बताया जाता है कि 8 सदसीय लोकायुक्त की टीम रिश्वत के रूपए में दिए 2 हजार रूपए शमीम से बरामद करते हुए प्रकरण बना लिया है। कार्रवाई के दौरान टीम में निरीक्षक मनोज पटवा सहित निरीक्षक उमा कुशवाह, आरक्षक राम दास कुर्मी, विनोद मालवीय, हेमेन्द्र पाल और बृजबिहारी पांडेय शामिल थे।