नरोत्तम का पलटवार- प्रेशर पॉलिटिक्स कर रहे दिग्विजय

narottam mishra

भोपाल।

कांग्रेस (congress) के राष्ट्रीय महासचिव (general secretary) , प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री (former chief minister) दिग्विजय सिंह ( Digvijay singh) के बीजेपी (bjp) पर हार्स ट्रेडिग ( horse trading) करने के आरोपों के बाद अब पूर्व मंत्री और बीजेपी विधायक नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) ने बयान दिया है ।उनका कहना है कि दिग्विजय सिंह का राज्यसभा (rarajyasabha) का कार्यकाल (term) खत्म होने वाला है ,दोबारा राज्यसभा में जाने के लिए प्रेशर पॉलिटिक्स (pressure politics) कर रहे हैं।

नरोत्तम ने आगे कहा कि वास्तव में दिग्विजय सिंह नरोत्तम फोबिया से ग्रस्त हैं। उन्होंने पहले भी आरोप लगाया था कि मैं यानी नरोत्तम कांग्रेस के विधायकों से ढाबों पर मिला था लेकिन आज तक प्रमाण नहीं दे पाए ।दरअसल दिग्विजय सिंह को मुख्यमंत्री से कोई काम कराना होगा इसीलिए इस तरह की बयानबाजी कर रहे हैं ।नरोत्तम से जब पत्रकारों ने पूछा कि क्या वे उपमुख्यमंत्री पद के लिए दौड़ में हैं ,उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में पार्टी जिम्मेदारी तय करती है ।कांग्रेस में व्यक्ति खुद दौड़ में शामिल होते हैं ।यही दोनों पार्टियों का मूल अंतर है ।नरोत्तम ने आगे कहा कि वीडी शर्मा (VD Sharma) और सुहास भगत (Suhas bhagat) के नेतृत्व में पूरी बीजेपी एक है।

 

दिग्विजय के ये है सनसनीखेज आरोप 

दिग्विजय सिंह का कहना है कि जब से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है बीजेपी के नेता शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) और नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) 25 से 30 करोङ रू में विधायकों को खरीदने की लगातार कोशिश कर रहे हैं और इस तरह से सरकार गिराकर बीजेपी की सरकार बनाना चाहते हैं। मैं बीजेपी के लोगों को सचेत कर देना चाहता हूं कि वे इसे कर्नाटक ना समझें। मध्यप्रदेश एक अलग राज्य है और यहां पर जो भी कार्रवाई हो रही है वह भी अब केंद्र के इशारे पर हो रही है ।दिग्विजय सिंह ने बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा कि वे ऐसे किसी भी प्रयास को सफल नहीं होने देंगे। नरोत्तम मिश्रा और शिवराज सिंह चौहान खुलेआम कांग्रेस विधायकों को तोड़ने में लगे हैं। वे हमारे विधायकों को खरीदने के लिए 25-30 करोड़ रुपये का ऑफर दे रहे हैं। इस राशि का भुगतान तीन किश्तों में होगा। पहली किश्त राज्यसभा चुनाव से पहले, दूसरी किश्त राज्यसभा चुनाव के बाद और तीसरी किश्त सरकार गिराने के बाद विधायकों को दिए जाएंगे। कई विधायकों से इसके लिए अप्रोच किया गया है।

मीडिया ने जब पूछा गया कि आप किस आधार पर ये बातें कह रहे हैं। इस पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैं बिना सबूत के किसी पर कोई आरोप नहीं लगाता हूं। विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि इस बात की पुख्ता जानकारी मेरे पास है। इनका सीधा आरोप शिवराज सिंह चौहान और नरोत्तम मिश्रा पर है। उन्होंने कहा कि एमपी में बीजेपी सरकार गिराने की कोशिश कर रही है। दिग्विजय ने कहा कि मै बिना तथ्यों के कोई आरोप नहीं लगाता। शिवराज और नरोत्तम में सहमती बनी है। एक CM और दूसरा डिप्टी CM के देख रहे सपने ।दोनों कांग्रेस विधायको को कर रहे फोन ,कांग्रेस के विधायको को 25 से 35 करोड़ का ऑफर कर रहे।