भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में हो रही यूरिया (Urea) की कालाबाज़ारी (Black Marketing) को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Narottam Mishra) ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा यूरिया की कालाबाजारी पर किसी को नही बख्शा जाएगा। कालाबाजारी करने वालों को जेल भेज जाएगा। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) के स्पष्ट निर्देश है जिसे अमल करने के निर्देश दिए जा चुके है। कालाबाजारी को रोकने में असमर्थ क्षेत्रीय थानों और वहां के अधिकारी पर भी कार्यवाही की जाएगी।

कांग्रेस के क्षेत्रीय नेता का कहना है कि बड़े नेताओ की लड़ाई में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की मेहनत बर्बाद हो रही है, इसपर नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस या तो गांधी मुक्त होगी या भारत कांग्रेस मुक्त हो जाएगा। दोनो में से एक बात भविष्य की सम्भावनाओं में दिख रही है। उन्होंने कहा कांग्रेस का जहाज धीरे धीरे धरातल की ओर जा रहा है। वहीं बिजली को लेकर कांग्रेस के बयान पर गृह मंत्री ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, मध्यप्रदेश कांग्रेस के समय में लालटेन युग में चला गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संबल योजना लागू की है, जो बिल 100 रुपए के थे उसे 50 रुपए कर दिया जो 200 था उसे 100 कर दिया। उन्होंने कहा जो बैकलॉक है वह लॉकडाउन के पीरियड का है। लॉकडाउन के पीरियड में विद्युत सप्लाई जारी थी उन तीन महीनों में बिल नही आया। उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह का बिल गरीबो को नही भरना होगा सारी बात आ चुकी है अब यह लोग ट्विटर और पेपर पर ही कुछ कर सकते है

कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए गृहमंत्री ने कहा, कांग्रेस के नेता सिर्फ ट्वीट कर सकते है। आज सुबह सिब्बल जी ने भी ट्वीट किया है। जो पार्टी अपने अंदर का लोकतंत्र नही बचा सकती वह देश के लोकतंत्र बचने की बात करती है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा की कांग्रेस कहती है की राजस्थान में उनके विधायक चले गए तो लोकतंत्र की हत्या हो गई, वापस आ गए तो पुनर्जन्म हो गया ऐसी तो पार्टी है जो कभी लोकतंत्र का जन्म कर देती है कभी हत्या कर देती है।

ग्वालियर में कांग्रेस नेताओं के जाने को नरोत्तम मिश्रा ने पॉलिटिकल पर्यटन बताते हुए कहा की कांग्रेस नेता ग्वालियर में पॉलिटिकल पर्यटन के लिए गए थे। उन्होने कहा कुछ और किया कुछ और। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कहा तो सदस्यता का था और कह रहे थे कि कमलनाथ की आंधी चल रही थी। आंधी ऐसे चली की सब कुछ उड़ गया, वह भी अपनी सरकार को ले उड़ी। उन्होंने कहा पूरी की पूरी सरकार को ले गई क्योंकि वो भ्रष्टाचार की सरकार थी। देखने में यही आया कि वहा सिर्फ टिकिट मांगने वालों आपस में बात कर रहे थे, बाकी ग्वालियर में कुछ नही था।