भोपाल

स्वास्थ्य और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि मध्यप्रदेश कोरोना संक्रमण पर विजय प्राप्ति के लिए बहुत तेजी से प्रगति कर रहा है। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने की दर 24 अप्रैल से 11.04% से घटकर मंगलवार तक 4.2% तक आ गई है। वहीं स्वस्थ्य मरीज होने की दर बढ़कर 15.79% तक पहुंच गई है। मध्यप्रदेश में मृत्यु दर पिछले 10 दिन में 8.14% से घटकर 5.02% तक आ गई है। कोरोना संक्रमित मरीज की संख्या मंगलवार तक 2387 है।

नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि इंदौर में अभी एक और जंप आएगा। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण जांच के लिए केंद्र से 8 मशीन मिली है और 12 मशीनें जल्दी ही प्राप्त होंगी। एक मशीन से सौ जांच करने की क्षमता होती है। इसके बाद अब भोपाल की समीक्षा बुधवार को की जाएगी। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के बाद गठित एक विशेष जांच दल, अफसरों की टीम के साथ इंदौर के लिए रवाना हो गयी है। उज्जैन में कोरोना संक्रमण की बड़ी वजह जब अध्ययन किया गया तो पता चला कि 130 कोरोना संक्रमित सीधे जमात से संबंधित हैं।

वहीं इस दौरान गेंहू खरीद को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राज्य सरकार ने गेहूं खरीदी में भी तेजी दिखायी है। अभी तक मध्य प्रदेश सरकार ने अप्रत्याशित रूप से 19 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी कर ली है और 14 लाख मीट्रिक टन का परिवहन हो चुका है। वैश्विक महामारी कोरोना के महासंकट में राहत देने वाली खबर यह है कि मध्यप्रदेश के किसानों के खाते में 128 करोड़ की राशि जमा भी हो चुकी है। इसके साथ ही मध्य प्रदेश सरकार ने गुजरात और राजस्थान में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए वहां भी बसें पहुंचा दी हैं और बहुत जल्दी मध्यप्रदेश वासी अपने घरों तक पहुंच सकेंगे।