ना आक्सीजन सिलेंडर, न ही सुरक्षा यंत्र, जहरीली गैस में उतारा, पांच की मौत, नोटिस जारी

टैंक में जहरीली गैस होने के कारण पांचों युवकों की दम घुटने से मौके पर ही मौत हो गई।

Morena Case Commission Notice Issued : मुरैना जिले के नूराबाद थानाक्षेत्र के धनेला गांव में संचालित साक्षी फूड प्राॅडक्टस फैक्ट्री में बीते बुधवार को टिकटौली गांव निवासी पांच युवक एक-एक से फैक्ट्री के टैंक में बिना आक्सीजन सिलेंडर एवं सुरक्षा उपकरणों के सफाई के लिये नीचे उतरे। टैंक में जहरीली गैस होने के कारण पांचों युवकों की दम घुटने से मौके पर ही मौत हो गई।

यह था मामला 

मामला नूराबाद थाना क्षेत्र के धनेला ग्राम पंचायत स्थित साक्षी फूड प्रोडक्ट्स का है।  इस फैक्ट्री में चैरी तैयार की जाती हैं. ये फैक्ट्री कौशल गोयल की है।  इसमें गंदे पानी से भरे गढ्ढे की लंबे समय से सफाई नहीं करायी गयी थी।  इस वजह से गढ्ढे में बहुत ज्यादा मात्रा में पानी जमा हो गया था।  इसकी सफाई करने के लिए फैक्ट्री संचालक ने एक मजदूर को उसमें उतार दिया. हैरान कर देने वाली बात यह रही कि उसे सेफ्टी किट या लाइफ जैकेट तक नहीं दी गई।  मजदूर तैरना भी नहीं जानता था।  वो जैसे ही गढ्ढे में उतरा वैसे ही गहरे पानी में डूबने लगा।

एक के बाद एक उतरे 5 मजदूर
अपने साथी को बचाने के लिए बाकी मजदूर भी भागे।  फैक्ट्री में काम कर रहा उसका सगा भाई सहित 4 मजदूर गढ्ढे में कूद गए. लेकिन गढ्ढा इतना गहरा था और पानी इतना ज्यादा था कि एक के बाद एक सब डूबते चले गए और सबकी मौत हो गई. अब अंदेशा लगाया जा रहा है कि, उनकी मौत की वजह जहरीली गैस का रिसाव भी हो सकता है।

आयोग का नोटिस जारी 

हादसे के बाद फैक्ट्री मालिक व मैनेजर ताला लगाकर भाग गये। इस मामलें में एसपी मुरैना का कहना है कि मृतकों की शाॅर्ट पीएम रिपोर्ट आने के बाद तथ्यों के आधार पर मामला दर्ज किया जायेगा। मामले में संज्ञान लेकर मप्र मानव अधिकार आयोग ने कलेक्टर एवं एसपी, मुरैना से प्रकरण की जांच कराकर पांचों मृतकों के वैध वारिसों को शासन की योजना/नियमानुसार देय मुआवजा राशि प्रदाय के संबंध में की गई कार्रवाई के बारे में एक माह में जवाब मांगा है। साथ ही यह भी पूछा है कि फैक्ट्री के नियमों के पालन में क्या-क्या उपेक्षा की गई है।