सरकार के इस निर्णय से कर्मचारी अधिकारियों को होगा नुकसान

मध्यप्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि कर्मचारियों के सामान्य भविष्य निधि पर मिलने वाली ब्याज दर अब 7.9% होगी। पहले यह दर 8% हुआ करती थी यानी अब पॉइंट 0.1% का घाटा सरकारी अधिकारी कर्मचारियों को सहना होगा। 11 फरवरी को वित्त विभाग के द्वारा जारी किए गए सर्कुलर में वर्ष 2019-2020 के द्वितीय तृतीय और चतुर्थ मास के दौरान विभिन्न विधियों में जमा राशियों पर ब्याज की दर बताई गई है। इसके अनुसार सामान्य भविष्य निधि मध्यप्रदेश ,अंशदाई भविष्य निधि मध्यप्रदेश ,पटवारी विशेष भविष्य निधि मध्यप्रदेश, मध्य भारत जीवन बीमा निधि मध्यप्रदेश और विभागीय भविष्य निधि मध्यप्रदेश में 7.9% की दर से ब्याज देय होगा। यह ब्याज दरें 1 जुलाई 2019 से 30 सितंबर 2019, 1 अक्टूबर 2019 से 31 दिसंबर 2019 और 1 जनवरी 2020 से 31 मार्च 2020 तक के लिए प्रभावशाली होंगी।

सरकार के इस निर्णय का कर्मचारी संगठनों ने विरोध किया है। उनका कहना है कि पहले ही सरकार महंगाई भत्ते जैसी चीजों में कटौती कर रही है और अब सरकार का यह निर्णय कर्मचारियों के भविष्य पर कुठाराघात है और इसे शीघ्र वापस लिया जाना चाहिए।