मौसम का फ़िर बदला मिजाज, अब इन जिलों में बारिश के साथ गिरे ओले

भोपाल।

एमपी में मौसम का एक बार फिर मिजाज बदल गया है। शनिवार को कई जगहों पर ओले गिरे और बारिश भी हुई। मौसम विभाग की माने तो शुक्रवार से हिमाचल प्रदेश के आसपास के इलाके में पश्चिमी विक्षोभका केंद्र बना हुआ है। इसी कारण मौसम में यह बदलाव आया है। महाकोशल-विंध्य में शुक्रवार से मौसम में बदलाव हुआ है। शुक्रवार, शनिवार के बाद आज रविवार को भी महाकोशल के सिवनी, मंडला और विंध्य के शहडोल, उमरिया में बारिश के साथ ओले गिरे। सिवनी के लखनादौन और घंसौर ब्लॉक के 20 से अधिक गांवों में दोपहर आज दोपहर तेज बारिश के साथ ओले गिरे।

फसलों को हुआ नुकसान

करीब 5 से 10 मिनट तक चने व आंवले आकार के ओले गिरने से फसलों को काफी नुकसान हुआ है। सूचना मिलने के बाद राजस्व विभाग की टीम ने प्रभावित गांवों में फसोलो को हुए नुकसान का जयजा लिया। निरीक्षण के बाद ही ओलावृष्टि से कितना नुकसान हुआ है यह सामने आएगा। लखनादौन ब्लॉक के आदेगांव, लखनादौन, पहाड़ी, टीलेगंगई के अलावा घंसौर ब्लॉक के कहानी, खमरिया गोसाई सहित अन्य गांवों में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई। उमरिया जिले में पाली के घुनघुटी में दोपहर में करीब आधे घंटे तक ओलावृष्टि हुई जिससे फसलों को नुकसान हुआ है। वहीं जिले के दूसरे हिस्सों में धूप खिली रही। उमरिया नगर में मौसम खुला रहा।

चिंता में किसान, मुआवजे की मांग
किसानों की मानें तो उन्होंने कर्ज लेकर खेती की थी, लेकिन बारिश ने सबकुछ बर्बाद कर दिया है। भारी बारिश और ओलावृष्टि से फसलों के साथ-साथ मकान भी टूट गए हैं. जिससे खाने और रहने का संकट खड़ा हो गया है। इस स्थिति में सरकार को हमारी मदद करनी चाहिए। फसल का सही मुआवजा देने के साथ हमारे लिए रहने की भी व्यवस्था की जानी चाहिए।वहीं भारी बारिश से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची तो देखा कि गेहूं, चना, दलहन की फसलें नष्ट हो चुकी है। अब इस नुकसान की भरपाई के लिए सर्वे किया जाएगा और उन्हें उचित मुआवजा दिलाने की पूरी कोशिश की जाएगी।

शहडोल में लगातार दूसरे दिन जारी रही बारिश

शहडोल जिले में लगातार दूसरे दिन भी देर तक जमकर बारिश हुई साथ में ओले भी गिरे हैं। इसके चलते किसान परेशान नजर आने लगे है। किसानो की माने तो खेतों में फसल बिछ जाने से दाना खराब होने की आशंका तेज हो गई है। आज रविवार को भी शहर में चने बराबर तो गांवों में कंचे के आकार के ओले गिरे है और इससे दलहनी फसलों के नष्ट होने की आशंका है। जिले के बुढ़ार, धनपुरी में भी ओले गिरे हैं। इधर, मंडला में भी शाम को बारिश के साथ ओले गिरे हैं।

क्या कहता है मौसम विभाग

मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी मप्र में हुई बारिश के चलते राजधानी सहित प्रदेशभर में न्यूनतम और अधिकतम तापमान में हल्की गिरावट होगी।यह पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, यूपी से होकर अब मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ की ओर जाएगा। पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव रविवार को भी बना रहेगा।