चाक चौबंद सुरक्षा दावों के बीच कारोबारी को अगवा कर हत्या का प्रयास करने वाले बेसुराग

no-clue-who-tried-to-abduct-businessman

भोपाल। हबीबगंज थाना इलाके से सेामवार की रात सरेराह एक कारोबारी का अपहरण कर लिया गया। बदमाशों ने जीप में बंधक बनाकर फरियादी को शहर की सड़कों पर घुमाया। उसके साथ में चलती जीप में जमकर मारपीट की गई। सिर में बियर की बॉटल मारकर घायल कर दिया गया। बेहोशी की हालत में युवक को बांस खेड़ी के पास फेंककर फरार हो गए। आचार संहिता के दौरान होली के पर्व से महज 48 घंटे पहले हुई इस वारदात ने पुलिस की सुरक्षा दावों की पोल खोल दी है। एफआईआर दर्ज किए 24 घंटे से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी पुलिस आरोपियों का सुराग तक नहीं जुटा सकी है। टीआई आलोक श्रीवास्तव के अनुसार थाने की तीन टीमें आरोपियों की तलाश में जुटी हैं। फिलहाल एक भी बदमाश की गिरफ्तारी नहीं की जा सकी है। सूचना के आधार पर आरोपियों के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है।

उल्लेखनीय है कि वल्लभ नगर जहांगीराबाद निवासी 24 वर्षीय राहुल यादव के रेत के डंपर चलते हैं। राहुल सोमवार देर रात को सात नंबर के पास सागर गैरे रेस्टारेंट के पास बाइक आ रहा था। तभी उसे बैतूल निवासी अनुरंजन सिंह चौहान एक सफेद रंग की जीप में नजर आया। अनुरंजन के साथ उसके आधा दर्जन साथी भी थे। उन्हें देखकर राहुल यादव बाइक से सुभाष स्कूल की तरफ  से भागा और अरेरा कॉलोनी होते हुए बासंखेड़ी पहुंचा। वहां अनुरंजन ने राहुल की बाइक के सामने अपनी जीप अड़ाकर रोका। इसके बाद धमकाते हुए जीप में अगवा कर लिया। राहुल यादव ने शिकायत में कहा है कि बदमाश उसे जीप में अगवा कर आधे घंटे तक अरेरा कॉलोनी और बांसखेड़ी के आसपास घुमाते रहे। इस दौरान उसने बचने की नाकाम कोशिश भी की। इस मामले में चौकाने वाली बात यह है कि पूरे शहर में चार पहिया वाहनों को लेकर चेकिंग की जा रही है, इसके बाद भी जीप को किसी भी चेकिंग प्वाइंट पर नहीं रोका गया। पीडि़त राहुल ने पुलिस को बताया है कि उसने एक माह पूर्व अनुरंजन सिंह चौहान से एक डंपर खरीदा था। इसका कुछ पैसा देना बाकी था। इसे लेकर उसका अनुरंजन सिंह से विवाद भी हुआ था। जिस जीप से कारोबारी को अगवा किया गया है, वह भोपाल आरटीओ में रजिस्टर्ड है।