नूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफा

कांग्रेस

डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में कांग्रेस नेत्री नूरी खान ने इस्तीफा दे दिया, नूरी ने अपना इस्तीफा प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को भेजा है, नूरी ने अपने इस्तीफे में पार्टी पर आरोप लगाते हुए सवाल खड़े किए है, नूरी ने लिखा है कि कांग्रेस पार्टी की विचारधारा अल्पसंख्यक समाज के प्रति भेदभावपूर्ण रवैये की हैनूरी खान ने कमलनाथ को लिखे अपने इस्तीफे में साफ लिखा है कि जब पार्टी में मेरे जैसे कार्यकर्ता की स्थिति ऐसी है तो दूसरों का क्या हाल होगा समझा जा सकता है, नूरी खान मध्य प्रदेश में कांग्रेस की तेज तरार नेत्री के रूप में जानी जाती है। 

MP : ग्रामीण उपभोक्ताओं के लिए सरकार की नई व्यवस्था, 5% कम दर पर उपलब्ध होगी सामग्री

कोविड संक्रमण काल में भी नूरी खान ने न सिर्फ आगे आकर अस्पतालों के हालातों पर प्रदर्शन किया था बल्कि निजी और सरकारी अस्पतालों की लापरवाही उजागर की थी। नूरी खान की माने तो उनका कहना है कि बहुत सोच समझकर इस्तीफे का फैसला लिया है, बहुत सोच समझकर मैं इस पार्टी में आई थी, मगर शायद कांग्रेस अपनी पार्टी लाइन से कही अलग काम कर रही है, ऐसे में मुझे यह फैसला लेना पड़ानूरी खान ने अपना दर्द अपने फैसबुक अकाउंट में भी पोस्ट कर बयां किया है। 

नूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफा

नूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफानूरी का दर्द, मुस्लिम हूँ, अध्यक्ष नही बन सकती हूँ, इसलिए दिया पार्टी से इस्तीफा