भोपाल।

कांग्रेस के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के पार्टी से इस्तीफा देने के बाद नई सरकार को लेकर अटकलें तेज हो गई है। सिंधिया गुट के बंगलुरु गए छह मंत्री सहित 19 विधायकों ने अपना इस्तीफा दे दिया है। सिंधिया के इस्तीफे के बाद प्रदेश में जैसे त्यागपत्र देने का दौर जारी है। इसी बीच खबरों के मुताबिक बसपा विधायक संजीव कुशवाहा सहित सपा विधायक राजेश शुक्ला बबलू ने शिवराज सिंह से उनके निवास स्थान पर मुलाकात की है। जिसे अटकलें तेज हो गई है कि सपा और बसपा विधायक कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेकर भाजपा को समर्थन दे सकते हैं।

वहीं इससे पहले आज सुबह ज्योतिराज सिंधिया ने कांग्रेस से अपना इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपना इस्तीफा सोनिया गांधी के नाम दिया। सिंधिया के इस्तीफा देने के बाद फिर जैसे प्रदेश में त्यागपत्र देने का माहौल चल पड़ा हो। ज्योतिरादित्य समर्थित सारे मंत्रियों एवं विधायकों ने कांग्रेस को अपना इस्तीफा सौंपना शुरू कर दिया है। ज्योतिरादित्य के इस्तीफे के बाद दोनों पार्टियों की तरफ से प्रतिक्रियाएं सामने आई। जिसमें पूर्व मंत्री यशोधरा राजे ने भी कहा है कि सिंधिया राजमाता के सपने को पूरा करेंगे। वहीं सिंधिया को गद्दार बताने वाले नेताओं की भी उन्होंने कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि पहले जाकर उन्हें सिंधिया परिवार का इतिहास पढ़ना चाहिए।

गौरतलब हो कि कमलनाथ सरकार से नाराज चल रहे सिंधिया ने आज सुबह कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। जिसके बाद कमलनाथ सरकार ने राज्यपाल से तत्काल प्रभाव से छह मंत्रियों के मंत्री पद को निरस्त करने की मांग की थी।