अब सड़क निर्माण में लागू होंगे इंटरनेशनल पैरामीटर्स, इन जिलों में बनेंगे नए रोड

Now-the-International-Parameters-will-be-implemented-in-road-construction-in-mp

भोपाल। प्रदेश में अब जर्जर हो चुकी सड़क एवं पुल-पुलियों का निर्माण इंटरनेशनल पैरामीटर्स से बनेगा। इसके लिए लोक निर्माण विभाग मौजूदा व्यवस्था को बदलकर फिडिक डॉक्यूमेंट पर काम करेंगे। नई प्रणाली के तहत प्रदेश में सड़क निर्माण की शुरूआत होशंगाबाद-विदिशा से शुरू होगी। 

मध्यप्रदेश में न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) से मिले चार हजार 875 करोड़ रुपए से नई सड़कें बनना हैं।  होशंगाबाद और विदिशा डिवीजन में पांच-पांच नई सड़कों से इसकी शुरूआत होगी। अंतरराष्ट्रीय मानकों से कामकाज की निगरानी और गुणवत्ता परखने स्वतंत्र इंजीनियर (थर्ड पार्टी) की नियुक्ति भी की गई है। मप्र में अभी राष्ट्रीय राजमार्ग अधिकरण एवं मप्र सड़क विकास निगम ही अंतर्राष्ट्रीय मानकों पर काम करता रहा है। लोक निर्माण विभाग ने पहली बार ‘फिडिक’ डॉक्यूमेंट (अंतर्राष्ट्रीय निर्माण परिजयोनाओं के संदर्भ में अपने काम और मानक शर्तों के मसौदा के लिए प्रसिद्ध) व्यवस्था के तहत उच्च गुणवत्ता की सड़कें बनाने का काम हाथ में लिया है। 

दो हजार किमी की सड़कें बनेंगी

ब्रिक्स देशों (ब्रिटेन, रूस, भारत, चीन एवं दक्षिण अफ्रीका) के संगठन द्वारा संचालित एनडीबी ने मप्र में सड़क निर्माण के लिए 3250 करोड़ रुपए एवं पुल-पुलियाओं के लिए 1625 करोड़ रुपए मंजूर किए है। इसके तहत पुराने और जर्जर पुलों के स्थान पर नए 358 पुल-पुलिया बनाए जाएंगे। इसके अलावा 2000 किमी लंबी 85 नई मुख्य जिला सड़कें बनेंगी। यह राशि निर्माण कार्य पूरा कराने के बाद बैंक द्वारा जारी की जाएगी। निर्माण का भुगतान पहले शासन की ओर से होगा, उसके बाद बैंक द्वारा प्रतिपूर्ति की जाएगी।

यहां बनेंगी सड़कें 

इस प्रोजेक्ट के तहत जिन झीलों में नई सड़कें बनाई जाने वाली है उनमे  उज्जैन में 168 किमी, खरगोन 153 किमी, कटनी 143 किमी, जबलपुर 71 किमी, विदिशा 98 किमी, इंदौर-धार 47 किमी, बड़वानी 105 किमी, छिंदवाड़ा 117 किमी, डिंडौरी-मंडला 112 किमी, शिवपुरी-गुना 114 किमी, खंडवा-बुरहानपुर 199 किमी, उमरिया 40 किमी, भिंड-दतिया 69 किमी, होशंगाबाद 99 किमी एवं ग्वालियर में 112 किमी लंबाई की सड़कें बनाई जा रही हैं। इन सड़कों के टेंडर हो चुके हैं। इनके अलावा रतलाम में 64 और पन्ना में 119 किमी लंबी सड़कों के लिए दोबारा टेंडर किए जा रहे हैं। पहले होशंगाबाद और विदिशा जिले की सड़कों का काम होगा।