निगम और BDA की मनमानी का विरोध, सड़कों पर उतरे रहवासी

भोपाल।
नगर निगम और बीडीए की मनमानी का विरोध बीसीए सलैया कॉलोनी के रहवासियों ने विरोध किया है।रहवासियों ने बीडीए सलैया कॉलोनी के एसटीपी प्लांट को बिल्डिंग से दूर हटाने और कॉलोनी के सीवेज को अमृत योजना में ना जोड़ने की मांग की है।

डेढ़ करोड़ की लागत से एसटीपी प्लांट पूरी तरह फेल होता नजर आ रहा है। रहवासी लगातार आ रही बदबू से परेशान हो रहे है। आज प्रदर्शन के दौरान STP की बदबू से STP के सामने रहने राजकुमार जाटव को दौरा पड़ गया और वो बेहोश हो गए।कॉलोनी में सीवेज पंप हाउस का विरोध करने पर नगर निगम ने कॉलोनी के सीवेज को अमृत योजना से जोड़ने से इंकार करने का विरोध किया है । प्रदर्शनकारियों ने कॉलोनी के सीवेज को अमृत योजना से जोड़ने और कॉलोनी के 500 मीटर दूर पंप हाउस बनाने की मांग को लेकर ये प्रदर्शन किया ।इस दौरान बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल रही।

बता दे कि नगर निगम अब सलैया स्थित बीडीए प्रोजेक्ट के भीतर सीवेज पम्प हाउस नहीं बनाएगा। स्थानीय रहवासियों के लगातार विरोध के बाद निगम ने बीडीए को पत्र लिख कर साफ कर दिया है कि विरोध के कारण निगम इस कॉलोनी को अपने सीवेज नेटवर्क से बाहर कर रहा है। ऐसी स्थिति में कॉलोनी के पास या बाहरी सड़क से सीवेज पाइप लाइन बिछाई जाएगी जो सलैया में बन रहे सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचेगी।बीडीए के सलैया प्रोजेक्ट में करीब डेढ़ करोड़ रुपए रुपए से बना सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बंद पड़ा है।इसका नतीजा यह है कि यहां बदबू फैली रहती है। हालात इतने खराब हैं कि कुछ लोग मकान खाली करके किराए के घरों में रहने के लिए चले गए हैं।