लॉकडाउन खत्म होते ही शिवराज के बंगले में पहुंचेंगे पटवारी अभ्यर्थी, मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

भोपाल।

प्रदेश में चल रहे कोरोना(corona) संकटकाल के बीच पटवारी अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(shivraj singh chouhan) के नाम एक पत्र लिखा है। पत्र में पटवारी भर्ती परीक्षा(Patwari Recruitment Examination) के अभ्यर्थियों(Candidates) ने जल्द से जल्द नियुक्ति की मांग की है। पटवारी अभ्यर्थियों ने सीएम शिवराज(CM hivraj) से कहा है कि जितनी जल्दी हो सके वह उनकी नियुक्ति(Recruitment )के आदेश जारी करें। उन्होंने कहा है कि अभी तक पटवारी अभ्यर्थियों द्वारा ढाई लाख से अधिक ट्विटर(twitter) पर ट्वीट(tweet) किए गए हैं। पर हमें कोई जवाब नहीं मिला है इसलिए लॉकडाउन(lockdown) खत्म होते ही प्रदेशभर के समस्त प्रतीक्षारत चयनित पटवारी शिवराज के बंगले पर मिलने आयेंगे।

दरअसल 2 वर्षों पूर्व हुए पटवारी परीक्षाओं में पास अभ्यर्थियों की नियुक्ति तात्कालिक सरकार से लेकर अब तक नहीं हुई है। जिसको लेकर पटवारी अभ्यर्थियों ने अब शिवराज सरकार को पत्र लिख मांग की है कि लगातार चले आ रहे उनके संघर्षों को विराम देने की कृपा करें। उन्होंने कहा कि हम सभी पात्र अभ्यर्थी हैं जिन्होंने परीक्षा पास की हुई है। पिछले 2 वर्षों से लगातार हम मानसिक, शारीरिक, आर्थिक तनाव से गुजर रहे हैं। पटवारी अभ्यर्थियों ने पत्र में लिखा है कि 2 वर्ष से अधिकारियों के द्वारा हमारा शोषण किया जा रहा है। हमें उचित जानकारी,उचित माध्यम से कभी उपलब्ध नहीं कराई गई साथ ही लगातार अन्याय किया गया है। विभाग के अधिकारियों का भेदभाव पूर्ण रवैया एवं भ्रष्टाचार से युक्त नीतियां ने हमें लगातार प्रताड़ित किया है। इसकी शिकायत हम कई बार कर चुके हैं किंतु अभी तक हमारे साथ न्याय नहीं हुआ है। चुंकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं तात्कालिक नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से हमने इस संबंध में चर्चा की थी और दोनों ने आश्वस्त किया था। कि आप पात्र अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जानी चाहिए। इस संबंध में विधानसभा में भी माननीय गोपाल भार्गव ने विधानसभा में प्रश्न उठाया था। हम सभी अभ्यर्थी निवेदन करते हैं कि यथाशीघ्र हमारी सुनवाई की जाए और हम माननीय मुख्यमंत्री जी से न्याय की अपेक्षा भी रखते हैं साथ ही जितनी जल्दी हो सके, हमारी नियुक्ति के आदेश जारी करने का कृपा करें।

उन्होंने कहा है कि उन्होंने  20 से अधिक बार भोपाल में धरना प्रदर्शन किया गया साथी हर बार हमें आश्वासन मिला किंतु वह विभाग के अधिकारियों ने द्वेष पूर्ण नीति अपनाकर नियुक्ति से वंचित रखा। सूचना के अधिकार के माध्यम से प्राप्त जानकारी एवं अन्य माध्यम से प्राप्त पर्याप्त सबूतों के अनुसार विभाग के पास 15 सौ से अधिक पद खाली हैं किंतु विभाग के अधिकारी इन पदों को दबाना चाहते हैं। जो कि गलत है जब पात्र अभ्यर्थियों की एक लिस्ट विभाग के पास उपलब्ध है तो नियुक्ति के आदेश अभी तक जारी क्यों नहीं किए गए ? मुख्यमंत्री शिवराज हमारे साथ 2 वर्ष से हो रहे इस अन्याय, अनाचार और अत्याचार का अंत करें।

ये है मामला  

पटवारी भर्ती परीक्षा 2017 में आयोजित की गई थी। जिसमें 9235 पदों पर भर्ती की जानी थी। विभाग द्वारा अभी तक 7398 पद ही भरे हैं। लगभग 1800 से अधिक पद खाली हैं। विगत 2 वर्षों से पटवारी अभ्यर्थियों द्वारा भोपाल में नेता प्रतिपक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री, मुख्यमंत्री, राजस्व मंत्री, राज्य सचिव, राजस्व आयुक्त से 100 से अधिक बार मुलाकात की गई । जिस पर माननीय राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत जी ने उन्हें आश्वस्त किया कि यह पद आप से ही भरे जाएंगे। किंतु सरकार बदलने और कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण उनके नियुक्ति में लगातार विलंब हो रहा है।