दंपति हत्याकांड: मनीष पर ही टिकी शक की सुई, ट्रांजेक्शन के रिकार्ड खंगालेगी पुलिस

police-investigation-in-old-couple-murder-case

भोपाल। टीटी नगर के प्रीयदर्शनी नगर में वृद्ध दंपति की हत्या के मामले में शक की सुई उनके भतीजे मनीष पर ही टिकी हुई है। उससे पुलिस के आला अधिकारियों ने स्वयं बीती देर रात तक पूछताछ की है। हालांकि मनीष ने फिलहाल वादरात को अंजाम देने की बात स्वीकार नहीं की है। वहीं पुलिस को पूरा यकीन है कि वारदात को उसी ने अंजाम दिया है। हत्याकांड में उसके साथ अन्य कोई शामिल था कि नहीं इस बात की जानकारी जुटाई जा रही है। पुलिस जल्द ही पूरे मामले का खुलासा कर सकती है। 

एएसपी अखिल पटेल के अनुसार 62 वर्षीय डालचंद रजक और 55 वर्षीय उनकी पत्नी बेटी बाई रजक की हत्या के मामले में उनका भतीजा मनीष रजक संदेही है। उससे पूछताछ की जा रही है। वहीं मृतक की बैंक डिटेल को भी खंगाला जा रहा है। उन्होंने कब-कब और कुल कितना पैसा रिटायरमेंट के बाद से अब तक निकाला है। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि हाल ही में कितने ट्रांजेक्शन कर एटीएम के जरिए रकम को निकाला गया है। जिन एटीएम से रकम को निकाला गया है, वहां के सीसीटीवी फुटैज भी चेक किए जाएंगे। जिससे साफ हो सके की रकम किसने निकाली थी। मनीष और डालचंद के बीच में लेन-देन की बात को लेकर विवाद की बात भी सामने आई है। बताया जा रहा है कि मनीष डालचंद के सात लाख रूपए हड़प चुका था।

टीटी नगर थाना इलाका स्थित प्रीयदर्शी नगर में रहने वाले रिटायर्ड एएसआई टीआर चौरीवाल के घर किराए से रहने वाली दंपति की बुधवार दोपहर को निर्मम हत्या कर दी गई। मृतक वृद्ध फारेस्ट डिपार्टमेंट का फोर्थ क्लास रिटायर्ड कर्मचारी था। हत्या का संदेह मृतक के भतीजे मनीष पर है। पुलिस ने संदेही मनीश को हिरासत में ले लिया है। पुलिस जल्द पूरे मामले का खुलासा कर सकती है। हत्या का कारण संदेही द्वारा वृद्ध का एटीएम चोरी कर लाखों रूपए की रकम हड़पना बताया जा रहा है। 

पुलिस के मुताबिक पंचशील नगर प्रियदर्शनी नगर में रहने वाले टीआर चौरीवाल के मकान के ग्राउंड लोर पर 62 वर्षीय डालचंद रजक अपनी 55 वर्षीय पत्नी बेटी बाई रजक के साथ किराए से रहते थे। उनकी दो बेटियां है, बड़ी बेटी की रानू की शादी हो चुकी है। जबकि छोटी बेटी नेहा रजक उनके साथ रहती है, वह एमपी नगर स्थित एक कॉल सेंटर में काम करती है। बुधवार शाम को जब इसी मकान में किराए से रहने वाला गोविंद विश्वकर्मा शाम करीब पांच बजे अपने कमरे पर पहुंचा, तो उसने देखा कि पड़ोस में रहने वाले डालचंद व उनकी पत्नी की खून से सनी हुई लाशें घर में पड़ी हुई थी। इस समय डालचंद के मकान खुला हुआ था। इसी बीच में डालचंद के निर्माणाधीन मकान में पीओपी का कार्य करने वाला राजेश भी डालचंद के घर उनके मकान की चाबी देने पहुंच गया था। जिसके बाद में मकान मालिक को घटना की सूचना दी, वह भी मौके पर पहुंचे और फि र डायल 100 को कॉल कर घटना की जानकारी दी। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस व एफएसएल की टीम ने घटना स्थल का निरीक्षण किया। पुलिस के मुताबिक रिटायर्ड वनकर्मी डालचंद रजक व उनकी पत्नी की अज्ञात आरोपी ने दोपहर एक से तीन बजे के बीच घर में घुसकर निशंस हत्या कर दी। 

– डालचंद के सिर पर सिल मारा, फिर तकि ये से मुह दबाया

पुलिस ने डालचंद रजक की लाश को घर के आगे वाले कमरे में दीवान पर से बरामद किया है। जहां से पुलिस को एक सिल मिला है तथा एक तकीया मिला है। दोनों पर खून के निशान हैं। पुलिस का अनुमान है कि डालचंद के सिर में सिल मारने के बाद में तकिये से मुह को दबाया गया है। डालचंद की हत्या के बाद दूसरे कमरे में उनकी पत्नी बेटी बाई की लाश मिली, जिस पर आरोपी ने पहले पत्थर से हमला किया। इसके बाद धारदार हथियार से गला रेत दिया और साथ ही उनके हाथ की कलाई भी काट दी। पत्नी का मुहं भी आरोपी ने तखिए से दबाया था। जिससे मौत सुनिश्चित हो सके। इसके बाद आरोपी मौके से फरार हो गया, पुलिस ने भीम नगर में रहने वाले उनके परिजनों को सूचना दे दी थी। संदेह के आधार पर भतीजे मनीश को हिरासत में लिया गया है। वारदात के समय आस पास के लोगों ने उसे डालचंद के घर आते और जाते देखा था।

– खुद गए थे बेटी को आफिस छोडऩे

डालचंद अपनी छोटी बेटी नेहा को स्वयं ऑफिस छोडऩे जाते थे। बुधवार सुबह भी उन्होंने बेटी नेहा को द तर छोड़ा था। इसके बाद में वह व पत्नी घर में अकेली थीं। तभी वारदात को अंजाम दिया गया है। डालचंद मई 2018 में रिटायर्ड हुए थे। इसके बाद वह खुदका एक आशियाना बनाना चाहते थे। जिसका निर्माण कार्य प्रीयदर्शनी नगर में ही स्थित हनुमान मंदिर के पास में चल रहा था। मकान में निर्माण कार्य के चलते उन्होंने बीते दो माह पहले मकान को किराए पर लिया था। 

– मनीश ने एटीएम चोरी कर लगाई थी चपत

डालचंद के बेटे नहीं थे। जिस कारण वह भतीजे मनीश पर भरोसा करते थे। उसको अकसर रकम जमा करने तथा निकालने के लिए बैंक एटीएम व पासबुक दे दिया करते थे। विगत दिनों मनीष ने एटीएम को चोरी कर लिया था। क्योंकि उसे एटीएम का पासवर्ड पता था इस लिए उसने कई बार में एटीएम से लाखों रूपए निकाल लिए थे। इस बात की जानकारी मृतक को लग गई थी।

– शिकायत के डर से की हत्या

बताया जा रहा है कि रकम हडऩे को लेकर डालचंद ने कुछ दिन पहले मनीष को फटकार लगाई और पैसे वापस मांगे थे। मनीष बुधवार दोपहर को चाचा डालचंद के घर पहुंचा था। जहां उन्हें डरा धमका रहा था। चाचा ने रकम न देने के एवज में उसकी शिकायत थाने में करने की बात की थी। संभवत: इसी डर में मनीष ने हत्याकांड को अंजाम दिया है। हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल मनीष ने हत्या की बात को स्वीकार नहीं किया है। पुलिस उससे पूछताछ में जुटी है।

इनका कहना है

दंपति के शव बरामद कर पीएम के लिए रवाना करा दिए गए हैं। एफएसएल की टीम से स्पॉट मुआएना कराया गया है। हत्याकांड में करीबी का हाथ होने की आशंका है। संदेह के आधार पर मृतक के भतीजे मनीष को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। प्राथमिक जांच में डालचंद और मनीष के बीच में लेनदेन की बात सामने आई है।

अखिल पटेल, एएसपी-जोन, 1