बासमती GI टैग मामले में सियासत, अब कमलनाथ भाजपा सरकार पर बरसे

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट
उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में किसानों का मुद्दा एक बार फिर गरमा गया है| इस बार सियासत में पंजाब के मुख्यमंत्री को लेकर वार पलटवार शुरू हो गया है| पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab CM Amarinder Singh) ने मध्य प्रदेश के बासमती चावल की जीआई (जियोग्राफिकल इंडिकेशन) टैगिंग देने पर आपत्ति जताई है| प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उन्होंने इस पर रोक लगाने की मांग की है| जिस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने इसकी निंदा करते हुए ट्वीट कर पूछा कि आखिर उनकी मध्यप्रदेश के किसान बन्धुओं से क्या दुश्मनी है| अब इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) ने भाजपा पर निशाना साधा है| उन्होंने ट्वीट कर कहा कि भाजपा हर मामले में झूठ बोलने व झूठ फैलाने में माहिर है।

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिख-भाजपा हर मामले में झूठ बोलने व झूठ फैलाने में माहिर है। मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जी.आई टेग मिले , मैं व मेरी सरकार सदैव से इसकी पक्षधर रही है और मैं आज भी इस बात का पक्षधर हूँ कि यह हमें ही मिलना चाहिये। मैं सदैव प्रदेश के किसानो के साथ खड़ा हूँ , उनके हितो के लिये लड़ता रहूँगा , इसमें कोई सोचने वाली बात ही नहीं है। बासमती चावल को जी.आई.टेग मिले , इसकी शुरुआत ऐपिडा ने नवम्बर 2008 में की थी। उसके बाद 10 वर्षों तक प्रदेश में भाजपा की सरकार रही। जिसने इस लड़ाई को ठीक ढंग से नहीं लड़ा। जिसके कारण हम इस मामले मे पिछड़े। केन्द्र व राज्य में भाजपा की सरकार के दौरान ही 5 मार्च 2018 को जी.आई.रजिस्ट्री ने मध्यप्रदेश को बासमती उत्पादक राज्य मानने से इंकार किया।

15 माह की सरकार पर झूठे आरोप लगा रहे
उन्होंने आगे लिखा- प्रदेश हित की इस लड़ाई में अपनी सरकार के दौरान 10 वर्ष पिछड़ने वाले आज हमारी 15 माह की सरकार पर झूठे आरोप लगा रहे है , कितना हास्यास्पद है। हमने हमारी 15 माह की सरकार में इस लड़ाई को दमदारी से लड़ा। अगस्त 2019 में इस प्रकरण में हमारी सरकार के समय हुईं सुनवाई में हमने दृढ़ता से शासन की ओर से अपना पक्ष रखा था। पंजाब के मुख्यमंत्री वहाँ के किसानों की लड़ाई लड़ रहे है।

कांग्रेस-भाजपा वाली कुछ बात नहीं
पूर्व सीएम ने कहा – मैं प्रदेश के किसानो के साथ खड़ा हूँ , सदैव उनकी लड़ाई को लड़ूँगा। इसमें कांग्रेस – भाजपा वाली कुछ बात नहीं है। इस हिसाब से तो केन्द्र में तो वर्तमान में भाजपा की सरकार है , फिर राज्य की अनदेखी क्यों हो रही है ?