प्रद्युम्न सिंह लोधी ने इसलिए छोड़ी कांग्रेस

भोपाल| चार महीने में दूसरी बार भाजपा (BJP) ने कांग्रेस (Congress) को बड़ा झटका दिया है| छतरपुर जिले की बड़ा मलहरा सीट से विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी (Pradyuman Singh Lodhi) भी भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा भी दे दिया है| अचानक हुए इस सियासी घटनाक्रम की कांग्रेस को भनक भी नहीं लगी| विधायकों का यूं पार्टी का दामन छोड़ने से कांग्रेस में हड़कंप की स्थिति है| वहीं भाजपा में आये प्रद्युम्न ने कहा कि भाजपा के विकास कार्यों से प्रभावित होकर कांग्रेस से इस्तीफा दिया है। वे कांग्रेस में अकेला महसूस कर रहे थे|

प्रद्युम्न सिंह लोधी ने भाजपा की सदस्यता लेने के बाद मीडिया से चर्चा में कहा कि उन्होंने क्षेत्र के विकास के लिए कांग्रेस छोड़ी| शिवराज सिंह ने विकास किया है। हम चाहते थे कि क्षेत्र में विकास हो। हमारे यहां पलायन होता है। पांच एकड़ का किसान आज मजदूरी करता है| यहां विकास हुआ तो किसान राजा होगा| उन्होंने यह भी कहा कि कमलनाथ सिर्फ छिंदवाड़ा के मुख्यमंत्री थे। वहीं काम करने में लगे थे। लोधी ने ट्वीट कर भी अपनी प्रतिक्रिया दी है| उन्होंने लिखा ‘आज मैं अपने पुराने घर भाजपा परिवार में वापस आ गया हूं, कांग्रेस में मै अकेलापन महसूस कर रहा था, मध्य प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय शिवराज सिंह जी चौहान और माननीय बीडी शर्मा जी का बहुत-बहुत धन्यवाद’|

लोग सरपंची नहीं छोड़ते, लोधी ने विधायकी छोड़ दी
लोधी के भाजपा में आने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रद्युम्न सिंह लोधी के मन एक ही बात है कैसे उनके क्षेत्र का विकास हो, विकास के लिए वो बीजेपी में शामिल हुए हैं| उन्होंने कहा विधायक का पद त्यागना आसान नहीं होता, लोग सरपंची नहीं छोड़ते, लेकिन उन्होंने विकास की भावना के लिए विधायक पद छोड़ा हम आपके साथ हैं|

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि प्रद्युम्न सिंह लोधी ने कांग्रेस में रहते हुए विकास के लिए कई प्रयास किए| लेकिन कांग्रेस क्षेत्र का विकास ही नहीं कर पाई. इसीलिए उन्होंने बीजेपी का साथ दिया है. बुंदेलखंड के विकास के लिए बीजेपी हमेशा प्रयास करेगी| उनकी भाजपा में घर वापसी हुई है|