weather

भोपाल| भीषण गर्मी से जूझ रहे प्रदेश के लोगों को अब हलकी राहत मिली है| बुधवार शाम हु��� बारिश के बाद गुरुवार को भी आसमान पर घने काले बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग के मुताबिक यह प्री मानसून की बारिश है जो 15 जून तक जारी रहेगी। बादलों की आवाजाही से भीषण गर्मी से लोगों को राहत मिली है।

प्रदेश में लंबे इंतजार के बाद कई स्थानों पर प्री मानसून की गतिविधियां शुरु होने के बाद भी गर्मी कम नहीं हुई है। बुधवार को राज्य में कई स्थानों पर धूल भरी हवाएं चलीं और हल्की बारिश हुई, जिससे तापमान में गिरावट आई। गुरुवार को सुबह से बादलों की लुकाछिपी के बीच गर्मी का असर कम हुआ है| रायसेन, रतलाम, श्योपुर, शिवपुरी और ग्वालियर समेत कई स्थानों पर तेज बौछारों के कारण गुरुवार को सुबह से गर्मी में थोड़ी राहत मिली है। कई स्थानों पर छिटपुट बौछारें हुई हैं। इससे गर्मी से हल्की राहत मिली है। लेकिन उमस कायम है।

 मौसम में आ रहे इस बदलाव के पीछे अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ‘वायु’ का भी प्रभाव माना जा रहा है। राजधानी भोपाल में कल तापमान 43.7 डिग्री रिकार्ड हुआ। भोपाल में कल शाम कुछ स्थानों पर धूल भरी आंधी के साथ मौसम में थोड़ी ठंडक घुली। कहीं-कहीं बूंदाबांदी भी हुई है। मौसम विज्ञान केन्द्र के मुताबिक आज प्रदेश के अनेक स्थानों पर प्री-मानसून की गतिविधियों में इजाफा होने के आसार हैं। मौसम विभाग के अनुसार प्री मानसून गतिविधियों के बावजूद प्रदेश के दमोह, छतरपुर, रीवा, सतना, सिंगरौली, उमरिया एवं शहडोल में भीषण लू चल सकती है। इसके अलावा भोपाल सहित कुछ अन्य स्थानों पर भी लू के हालात बन सकते हैं।

समुद्र में उठ रही ऊंची-ऊंची लहरें

अरब सागर में उठे चक्रवात वायु गुजरात के करीब पहुंच गया है। इसका असर भी नजर आने लगा है। गुजरात के वालसाड इलाके में समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं। वहीं हवा की रफ्तार भी काफी तेज हो गई है। हालांकि मौसम विभाग ने एक राहत भरी खबर दी है। उसके मुताबिक चक्रवात वायु गुजरात से नहीं टकराएगा। ऐसे में नुकसान की आशंका कम है। फिर भी तटीय इलाकों को एहतियान खाली करा दिया गया है।