कश्मीरी छात्रों की मप्र यात्रा पर सवाल, राज्यपाल से शिकायत

Question-on-the-bhopal-journey-of-Kashmiri-students

भोपाल| कश्मीर से मध्य प्रदेश भ्रमण के लिए भोपाल आये विभिन्न स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले छात्रों द्वारा दिए गए बयानों को लेकर विवाद खड़ा हो गया है| जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र, भोपाल ने छात्रों द्वारा की गई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को लेकर सवाल उठाते हुए राज्यपाल को पत्र लिखकर जांच की मांग की है| इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में छात्रों ने कहा था कि ‘हमें न हिंदुस्तान चाहिए और न पकिस्तान, हमें तो अलग मुल्क चाहिए’| 

राज्यपाल को लिखे पत्र में कहा गया है जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र एक पंजीकृत संस्था है जो जम्मू कश्मीर से जुड़े विषयों पर सम्पूर्ण देश में नागरिक के बीच तथ्यात्मक जानकारी देने एवं भारत माता की एकता अखंडता के लिए कार्यरत है| पत्र में कहा गया है कि पिछले सप्ताह नेहरू युवा केंद्र भोपाल के तत्वावधान में जम्मू कश्मीर के 132 युवाओं का एक दल युवा एक्सचेंज कार्यक्रम के अंतर्गत भोपाल में आया था| इन 132 युवाओं की यात्रा का सम्पूर्ण व्यय भारत सरकार के माध्यम से किया गया है और नेहरू युवा केंद्र भोपाल के माध्यम से अनेक कार्यक्रम भी इनके स्वागत में आयोजित हुए जिसमे प्रेस वार्ता भी शामिल थी| जिसके बाद एक अखबार में छपी खबर के अनुसार छात्रों ने कहा था कि हमें न हिन्दुस्तान चाहिए न पाकिस्तान का साथ चाहिए, हमें तो अलग मुल्क चाहिए| 

जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र का कहना है कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को जिस व्यक्ति और संस्था ने आयोजित कराई उसकी जांच कर कार्यवाही की जाए क्यूंकि कश्मीरी युवाओं के उक्त कथन राष्ट्रीय अखंडता पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले लांछन एवं प्रख्यान की श्रेणी में आते हैं, जो दंडनीय अपराध है|