राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा जल्द पहुंचेगी मध्यप्रदेश, बुरहानपुर जिले से जल्द हो सकती है प्रदेश में एंट्री

खबरों की मानें तो राहुल पूरे 16 दिन मध्यप्रदेश में इस यात्रा के तहत विभिन्न जिलों में भ्रमण करेंगे जिसमें महाकाल की नगरी उज्जैन भी शामिल है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा नवंबर माह में मध्य प्रदेश मैं एंट्री करने वाली है। जानकारी के मुताबिक राहुल की यह यात्रा मध्यप्रदेश के बुरहानपुर से दाखिल होगी। इस बात को मद्देनजर रखते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता और कार्यकर्ता पूरे जोरों शोरों से तैयारियों में जुट गए हैं। खबरों की मानें तो राहुल पूरे 16 दिन मध्यप्रदेश में इस यात्रा के तहत विभिन्न जिलों में भ्रमण करेंगे जिसमें महाकाल की नगरी उज्जैन भी शामिल है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता और भारत जोड़ों की टीम जो इस वक्त मध्यप्रदेश में आ चुकी है राहुल की इस यात्रा का रोडमैप तैयार करने में जुट चुके हैं। यह तैयारियां करने में 1 से 2 दिन का समय लग सकता है।

कैसे हो रही है तैयारियां?

कांग्रेस के दिग्गज नेता और भारत जोड़ो यात्रा की टीम द्वारा रूट मैप तैयार करने के बाद बनाए गए सभी जिला प्रभारी राहुल की यात्रा में शामिल होने मध्यप्रदेश से बाहर जाएंगे और वहां देखेंगे की यात्रा का आयोजन किस तरह से किया जा रहा है और किस तरह से यात्रा का मैनेजमेंट किया जा रहा है। इसके बाद सभी प्रभारी वापस मध्यप्रदेश में आकर जिस तरह का प्रबंधन यात्रा के दौरान किया जा रहा है उस तरह के प्रबंधन की व्यवस्था मध्यप्रदेश में करेंगे।

क्या है इस यात्रा के मायने?

अगले साल यानी 2023 में मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को 2023 के शंकरनाद की तरह माना जा रहा है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं का मानना है कि इस यात्रा के बाद 2023 के चुनाव कि जो राह है वह उनके लिए आसान होने वाली है और निश्चित तौर पर कांग्रेस को इससे फायदा मिलेगा। 15 दिनों तक राहुल गांधी का मध्यप्रदेश में रहना कांग्रेस के लिए एक मास्टर स्ट्रोक साबित हो सकता है। इतना ही नहीं इस यात्रा में कांग्रेस जनता के बीच जाकर जनता के मुद्दों पर चर्चा भी करेगी।

क्या है भारत जोड़ो यात्रा?

भारत जोड़ो यात्रा के तहत कॉन्ग्रेस नेता राहुल गांधी कन्याकुमारी से जम्मू कश्मीर तक का सफर पैदल तय करेंगे। उनकी इस यात्रा का उद्देश्य पूरे देश को एक साथ लाकर देश की अखंडता को मजबूत करना है। लगभग 3500 किलोमीटर की यह यात्रा को डेढ़ सौ दिन में पूरा करने का लक्ष उनके द्वारा रखा गया है। अब तक इस यात्रा के 52 दिन पूरे हो चुके हैं और यह 4 राज्यों के 16 जिलों को पार कर चुकी है। इस समय राहुल की यह यात्रा तेलंगाना राज्य में पदयात्रा कर रही है। इस यात्रा में जनता के मुद्दों को और उन सभी मुद्दों को जिनसे देश की अखंडता पर खतरा मंडरा रहा है, तेज आवाज के साथ उठाया जा रहा है। राहुल की इस यात्रा में पूरे देशवासियों से साथ चलने का आवाहन भी किया जा रहा है।