भोपाल| नागरिकता संसोधन कानून के समर्थन में विधायक हुजूर एवं भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने प्रेस वार्ता कर कांग्रेस पर झूठ फैलाने का आरोप लगाया| वहीं उन्होंने कहा यह कानून नागरिकता देने वाला है किसी की नागरिकता लेने का नही । कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दल नागरिकता संशोधन कानून को समाज मे तोड़ मरोड़ कर पेश करने में जुटे है । विधायक शर्मा ने कांग्रेस को चुनौती देते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून में एक लाइन ढूंढ कर बता दें जिससे किसी की नागरिकता छीनी जा रही हो ।

उन्होंने कहा धार्मिक आधार पर भारत के दो टुकड़े करने वाली कांग्रेस आज देश मे नागरिकता संशोधन कानून का दुष्प्रचार कर देश में आग लगाने में जुटी है । देश मे जनाधार खो चुकी कांग्रेस राजनैतिक जमीन तलाशने और मुस्लिम तुष्टिकरण में इतनी अंधी हो चुकी है कि पाकिस्तान-बांगलादेश-अफगानिस्तान में हिन्दू-सिक्ख-ईसाई-जैन -बौद्ध-पारसी जिसमे सर्वाधिक दलित समुदाय, सिंधी-पंजाबी पिछड़े अनुसूचित जन जाति वर्ग के नागरिको के साथ हुए धार्मिक  उत्पीड़न उनकी बहन बेटियो के साथ हुए बालात्कार की घटनाओं का समर्थन करना कांग्रेस की दलित विरोधी नीति को प्रतिपादित करता है। पाकिस्तान में दलितों पर हुए अत्याचारों पर समय रहते कांग्रेस की पूर्वती केंद्र सरकारों ने संज्ञान लिया होता तो आज स्थिति इतनी विस्फोटक नही होती। धार्मिक उत्पीडन बहन बेटियो के साथ बालात्कार जैसी घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सकता था परन्तु  मुस्लिम तुष्टिकरण व वोट बैंक के खातिर कांग्रेस ने हिन्दुओ के धर्म परिवर्तन और बहन बेटियो के बालात्कार को स्वीकार कर लिया ।

कहाँ गये 23 और 22 प्रतिशत हिन्दू पाकिस्तान और बांग्लादेश के

विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि भारत – पाकिस्तान बंटवारे के दौरान पाकिस्तान में 23 प्रतिशत हिन्दू निवासरत थे जो अब मात्र 3.7 प्रतिशत बचे है । वही बांगलादेश में 22 प्रतिशत हिन्दू थे अब 7.8 प्रतिशत हिन्दू बचे है । यह हिन्दू कहाँ गये ? नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वाली कांग्रेस जवाब दे पाकिस्तान-बांगलादेश-अफगानिस्तान के इन हिन्दू परिवारों को आसमान खा गया या जमीन निगल गयी ? वही इसके उलट भारत मे बंटवारे के समय मुस्लिमो का प्रतिशत 9.8 था जो आज लगभग 14 प्रतिशत से अधिक है।

कांग्रेस की धर्मनिरपेक्षता में हिन्दू के लिए कोई स्थान नहीं  

विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वाली और मुस्लिम तुष्टिकरण वाली कांग्रेस जो धर्म निरपेक्षता की झूठी बात करती है इस कांग्रेस के एजेंडे में हिन्दू बंटवारे के समय भी नही थे और आज भी नही है । यदि होते तो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचार जिसमे उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान के हिन्दू जब भी भारत आना चाहे आ सकते है उन्हें नौकरी देना उनका जीवन सामान्य करना यह भारत सरकार का कर्तव्य है । विधायक शर्मा ने कहा कि निश्चित रूप से महात्मा गांधी जी के नाम का भरपूर उपयोग करने वाली कांग्रेस गांधी जी के विचार उनके राम राज्य की कल्पना पर थोड़ा भी चली होती तो आज कांग्रेस को देश मे दंगे और आगजनी कराने की जरूरत न पड़ती ।

राहुल गांधी कुछ दिन गुजारे पाकिस्तान में फिर नागरिकता कानून समझ आ जाएगा  

विधायक शर्मा ने कहा नागरिकता संशोधन कानून पर पत्रकार वार्ता लेने होशंगाबाद पहुँचे विधायक एवं भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए कहा की पाकिस्तान में हिन्दुओ विशेषकर दलितों पर हो रहे अत्याचार उन्हें अत्याचार नही लगते तो पाकिस्तान में रहकर बताएं । भारत मे रहकर हिन्दुओ को गाली देना कांग्रेस की संस्कृति बन गयी है । हिन्दुओ को गाली देकर मुस्लिम तुष्टिकरण की दोहरी नीति को देश अब भलीभांति समझ चुका है । 

 जोगेंद्रनाथ मंडल और पाकिस्तान के पहले कानून व श्रम मंत्री ने क्यों छोड़ा पाकिस्तान ? 

हिंदुस्तान-पाकिस्तान के बंटवारे के बाद 1947 में बनी पाकिस्तान की पहली सरकार में दलित नेता जोगेंद्रनाथ मंडल को केन्द्रीय कानून एवं श्रम मंत्री के सामने तत्कालीन पाकिस्तान के बंगाल प्रान्त में हिन्दुओ विशेषकर दलितों के साथ हो रहे धार्मिक उत्पीडन, बहन बेटियों के साथ बालात्कार की घटनाओं पर तत्कालीन पाकिस्तान सरकार का ध्यान आकर्षित कराया परंतु दलितों पर होने वाले अत्याचार नही रुके। मंडल ने इन सब से दुखी होकर मंत्री पद से इस्तीफा देकर भारत में शरण ली। मंडल ने इस्तीफा देने के कारणों से अवगत कराते हुए बताया था कि बंगाल प्रान्त में दलितों पर अत्याचार में मुस्लिमो के साथ साथ पाकिस्तान की सेना एवं पुलिस सीधे तौर से संलिप्त है । पूर्वी पाकिस्तान के अलावा पश्चिमी पाकिस्तान में भी ऐसे ही हालात हैं । विभाजन के बाद पश्चिमी पंजाब में 1 लाख पिछड़ी जाति के लोग थे उनमे से बड़ी संख्या को बलपूर्वक इस्लाम में परिवर्तित किया गया है । मंडल ने एक सूची का हवाला देते हुए बताया था कि 363 मंदिरों और गुरूद्वारे मुस्लिमों के कब्जे में हैं । इनमे से कुछ को मोची की दुकान, कसाईखाना और होटलों में तब्दील कर दिया है, सिंध में रहने वाली पिछड़ी जाति की बड़ी संख्या को जबरन मुसलमान बनाया गया है । इन सबका कारण एक है । हिंदू धर्म को मानने के अलावा इनकी कोई गलती नहीं है। मंडल ने दलितों के साथ हो रहे अत्याचार को न रोक पाने की स्थिति में पद से इस्तीफा देकर भारत वापस लौट जाना ही बेहतर समझा ।

विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि क्या तत्कालीन कांग्रेस की भारत सरकार को पाकिस्तान में दलितों के साथ हो रहे अत्याचार पर संज्ञान नही लेना था ? शर्मा ने कहा कि कांग्रेस ने तब भी दलितों के हित के बारे में नही सोचा और आज जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा नागरिकता संशोधन कानून लाकर उत्पीड़ित लोगों को संबल दे रही है तो कांग्रेस उसका विरोध कर रही है। विधायक शर्मा ने कहा कि हिन्दू अथवा दलित विरोधी कांग्रेसी मानसिकता भी पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हुए अत्याचार अन्याय की बड़ी वजह है। यदि कांग्रेस ने हिन्दुओ के प्रति उदारता दिखायी होती पाकिस्तान में हिन्दुओ विशेषकर दलितों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध आवाज उठायी होती तो आज लाखो परिवार धार्मिक उत्पीड़न का शिकार न होते ।