रेलवे ने कमर कसी: भोपाल में 40 कोच आइसोलेशन वार्ड में तब्दील, इंदौर में 80 की तैयारी

इंदौर/भोपाल@आकाश धौलपुरे. कोरोना को लेकर मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. ऐसे में मरीजों के इलाज के लिए आइसोलेशन वार्ड्स की जरूरत भी बढ़ रही है. इसी के मद्देजनर रेल विभाग लगातार रेल्वे कोचेज़ को आइसोलेशन वार्ड्स के लिए इस्तेमाल करने लायक बना रहा है.

भोपाल के निशातपुरा इलाके में स्थिति रेल्वे फैक्ट्री ने 40 रेल डिब्बों को आइसोलेशन वॉर्ड की शक्ल दे दी है. इन डिब्बों में ऑक्सीजन की उपलब्धता के साथ-साथ कई अन्य मेडिकल इक्यूपमेंट्स लगाने की सुविधाएं भी जुटाई गई हैं. एक कोच में 10 मरीजों को आइसोलेशन में रखा जा सकता है. साथ ही इनमें डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ के रहने की भी सुविधा है.

पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक के निर्देशन में रतलाम मंडल के इंदौर में 50  थर्ड एसी और डॉ. अंबेडकर नगर, महू में 30 थर्ड एसी कोचज़ को आइसोलेशन वॉर्ड्स में परिवर्तित किया जा रहा है. कुल मिलाकर रेल्वे भी अब कोरोना के खिलाफ जंग में मैदान में उतर गया.

सरकार लगातार ये दावा कर रही है कि कोरोना के खिलाफ जंग में संसाधनों की कमी को आड़े नहीं आने दिया जाएगा. यही वजह की मरीजों की संख्या बढ़ने की स्थिति में इन रेलवे कोचेज़ में इलाज का पूरा इंतजाम किया गया है.