bjp

भोपाल।

19 जून को होने वाले राज्यसभा चुनाव (Rajyasabha) को लेकर प्रदेश (mp) की सियासत में सरगर्मियां तेज़ हो गई है।खास करके राज्यसभा की दूसरी सीट को लेकर सस्पेंस अब भी बरकरार है, क्योंकि एसपी-बीएसपी(sp-bsp) और निर्दलीय विधायकों ने अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है।इधर कांग्रेस नेताओं(congress leaders) ने निर्दलीयों, सपा-बसपा के नेताओं से संपर्क साधना शुरु कर दिया है।माना जा रहा है राज्यसभा चुनाव में बीजेपी(bjp) को बड़ा झटका लग सकता है।इस बात के संकेत खुद विधायकों ने दिए है।

दरअसल, सपा-बसपा विधायक राजेश शुक्ला बब्लू और संजीव कुशवाह (SP-BSP MLAs Rajesh Shukla Bablu and Sanjeev Kushwaha) का राज्यसभा चुनाव को लेकर बड़ा बयान सामने आया है।विधायकों का कहना है कि पार्टी हाइकामन जो तय करेगी उसको वोट करेगे।फ्लोर पर क्षेत्र की विकास के लिए बीजेपी को समर्थन दिया था।।सरकार को समर्थन दिया है, नई सरकार में उम्मीद है पिछली सरकार में जो काम स्वीकृत कराए थे उनको जल्द शुरु कराया जाएगा ।राज्यसभा चुनाव को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं लिया ।

बीएसपी और एसपी विधायक ने राज्यसभा चुनाव को लेकर कहा कि बीजेपी से कोई चर्चा नही हुई है। बीजेपी की ओर से अभी तक किसी ने संपर्क नहीं किया है । राज्य सभा चुनाव में किसे वोट करेंगे पार्टी आलाकमान से बातचीत करके तय करेंगे।प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet expansion) में हो रही देरी पर बब्लू शुक्ला ने कहा कि मैं समझता हूं पहली बार मंत्रिमंडल विस्तार में इतनी देरी हुई है।

कांग्रेस नेताओं ने बढ़ाए संपर्क
वही खबर है कि राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस के दिग्गज नेता सपा और बसपा विधायक के संपर्क मे है।कांग्रेस के राज्यसभा उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने बीएसपी विधायक संजीव कुशवाहा से संपर्क किया। कांग्रेस पूरी कोशिश में जुटी है कि दुसरी सीट पर भी कब्जा हो सके।वही बीजेपी भी अपने रणनीतियों के तहत काम कर रही है।

VD कर चुके है दावा, BSP-SP और निर्दलीय साथ, 2 सीटें जीतेंगे
इससे पहले बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा दावा कर चुके है कि बीएसपी, एसपी और चारों निर्दलीय उनके साथ है और वे हर हाल में दो सीटों पर जीत हासिल करेंगे। । सरकार के समर्थन के साथ राज्यसभा चुनाव में भी ,बीएसपी ,एसपी और निर्दलीय विधायक बीजेपी का समर्थन करेंगे ।

ऐसा है सियासी गणित
सदन में अभी भाजपा के विधायकों की संख्या 107 और कांग्रेस विधायकों की संख्या 92 है। चार निर्दलीय, दो बसपा और एक सदस्य सपा के हैं। 230 सदस्यीय विधानसभा के 206 विधायक मतदान करेंगे। दो सीटें (जौरा से बनवारीलाल शर्मा और आगर से मनोहर ऊंटवाल) विधायकों का निधन होने की वजह से रिक्त हैं, जबकि 22 विधायक विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे चुके हैं। एक सीट को जीतने के लिए 52 विधायकों की जरूरत होगी। ऐसे में बीजेपी के पास अकेले 107 विधायक हैं, दलीय स्थिति के आधार पर भाजपा को दो सीटें मिल सकती हैं, लेकिन विधायकों के बयान से मुकाबला रोचक होता नजर आ रहा है।

गौरतलब है कि लॉक डाउन के चलते लम्बे समय से मध्य प्रदेश की तीन राज्यसभा सीटों पर चुनाव होना है। दिग्विजय सिंह, प्रभात झा और सत्यनारायण जटिया का कार्यकाल नौ अप्रैल को समाप्त हो जाने के बाद से तीनों सीटे रिक्त है। नियमानुसार चुनाव अप्रैल में ही हो जाने थे, लेकिन कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण इन सीटों पर अभी तक चुनाव नहीं कराया जा सका है। अब 19 जून को इन सीटों पर चुनाव होगा, इसी दिन नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे। बीजेपी की ओर से ज्योतिरादित्य सिंधिया और डॉक्टर सुमेर सिंह सोलंकी राज्यसभा के उम्मीदवार हैं। वहीं कांग्रेस की ओर से दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया ने नामांकन भरा है। जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, फूलसिंह बरैया और सुमेर सिंह सोलंकी के भाग्य का फैसला होना है।अब देखना दिलचस्प होगा कि ये सातों किसको वोट करते है।