नसीहत देने के बहाने भाजपा की रणनीति उजागर कर गए रामलाल

Ram-Lal-exposed-Strategy-of-party-in-Membership-Campaign-Meeting

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के सदस्यता अभियान की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने मप्र भाजपा की रणनीति को उजागर कर दिया है। अभी तक मप्र भाजपा प्रदेश में सत्ता वापसी का दावा करते रहे हैं। जिसको लेकर राजनीतिक गलियारों में तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इस बीच रामलाल ने पार्टी की बैठक में प्रदेश में मध्यावधि चुनाव के संकेत दे दिए हैं। हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि भाजपा मध्यावधि चुनाव कराने के लिए पक्ष में है या नहीं। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव एवं अन्य विधायक भी मौजूद थे। 

रामलाल ने संगठन चुनाव की तैयारी के साथ कहा कि प्रदेश में कभी भी चुनाव हो सकते हैं इसलिए तैयारी रखो।  इस बयान ने भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों के नेताओं की बेचैनी बढ़ा दी है। कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा प्रदेश में मध्यावधि चुनाव चाहती है। इधर, मध्यावधि चुनाव के बयान से कांग्रेस भी जवाबी मोड में आ गई है| मध्यावधि चुनाव की संभावनाओं को खारिज करते हुए कमलनाथ सरकार के मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि भाजपा सिर्फ लोगों का ध्यान भटकाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि मप्र में मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में रामराज स्थापित होगा। रामलाल और भाजपा के सभी नेता कुछ नहीं कर पाएंगे। सारे मंत्री और विधायक कमलनाथ के साथ हैं।

 रामलाल ने संगठन विस्तार पर मंत्र देते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले संगठन ने 50 फीसदी से ज्यादा वोट प्राप्त करने का लक्ष्य तय किया था। हमने देश के 224 लोकसभा क्षेत्रों में 50 फीसदी से ज्यादा वोट हासिल किए। हमें हर बूथ को ऐसा ही बनाना है। सदस्यता अभियान में इस बात का ध्यान रखें, ताकि मध्यप्रदेश में जब भी, जो भी चुनाव हो, तो हमारा कोई बूथ कमजोर न रहे। रामलाल ने कहा कि सदस्यता अभियान के साथ हमें भारतीय जनता पार्टी को सर्वव्यापी, सर्वस्पर्शी बनाना है। जिन वर्गों और समाजों में हमारा काम कम लगता हैं, उन पर ज्यादा ध्यान दें। पार्टी को गरीब तबके, नव मतदाताओं और लाभार्थियों का अच्छा समर्थन मिला है, उनसे संपर्क करें और उन्हें पार्टी से जोड़ें। किसी वर्ग से मिलने में, संपर्क करने में कोई हिचक न रखें। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद विपक्षी दल सो रहे हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी का संगठन यह मानता है कि हमारा सर्वोत्तम आना अभी बाकी है। हमारा सर्वोत्तम तब होगा जब हम केरल, आंध्र, तेलंगाना और बंगाल जैसे राज्यों में अपनी सरकार बनाएंगे। जब कश्मीर घाटी में भाजपा का ध्वज लहराएगा। 


चर्चा में रही तोमर की अनुपस्थिति

सदस्यता अभियान की बैठक में हाल ही में चुने गए सांसदों का सम्मान भी किया गया। बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर नहीं पहुंचे, जो चर्चा का विषय रहा। क्योंकि तोमर मप्र भाजपा के ऐसे नेता हैं जो प्रदेश संगठन के हर कार्यक्रम में हिस्सा लेने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते हैं। खास बात यह है कि बैठक में तोमर का नाम तक नहीं लिया गया। हालांकि पार्टी के दिल्ली सूत्रों ने बताया कि तोमर रविवार सुबह प्रधानमंत्री निवास पर होने वाली मंत्री समूह की बैठक में हिस्सा लेने के लिए शनिवार को दिल्ली रवाना हो गए  थे। जिस वजह से वे मप्र भाजपा की बैठक में शामिल नहीं हुए।