retired-peon-wear-shoes-after-24-years-in-mp

भोपाल/इंदौर। बीते दिनों मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक कार्यकर्ता संकल्प पूरा होने पर घर बुलाकर जूते पहनाए थे, वही एक कार्यकर्ता की चोटी काटी थी। कुछ ही ऐसा ही वाक्या एक बार फिर इंदौर में देखने को मिला, जहां एक रिटायर हुए चपरासी को उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने अपने हाथों से जूते पहनाए। चपरासी ने 24  साल पहले प्रतिज्ञा ली थी कि जब तक विभाग का दफ्तर अपने भवन में नही बन जाता तब तक ही जूते-चप्पल पहनूंगा और आखिरकार उनकी यह प्रतिज्ञा पूरी हुई और उन्होंने जूते पहने। इस दौरान  लोकसभा अध्यक्ष और इंदौर सासंद सुमित्रा महाजन भी मौके पर मौजूद रही।  

दरअसल, शुक्रवार को इंदौर में दूसरे 50 करोड़ के लागत के अतुल्य आईटी पार्क भवन का लोकार्पण करने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी पहुंचे थे।इस दौरान एकेवीएन के सेवानिवृत्त कर्मचारी मिश्रीलाल ने सबका ध्यान अपने ओर खींचा।एमपीआईडीसी के निदेशक कुमार पुरुषोत्तम ने ताई और पटवारी को बताया कि एकेवीएन के सेवानिवृत्त कर्मचारी मिश्रीलाल ने 24  सालों से जूते ना पहनने की शपथ ली है और अब पूरी हो गई है। 

पुरुषोत्तम ने बताया कि विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के तौर पर काम करते हुए मिश्रीलाल ने 1994 में शपथ ली थी कि तब ही जूते-चप्पल पहनूंगा जब विभाग का दफ्तर अपने भवन में होगा। इस बीच मिश्रीलाल रिटायर हो गए, लेकिन नंगे पैर ही रहे। नए आईटी पार्क के साथ अब विभाग को अपना दफ्तर भी मिल गया, लिहाजा मिश्रीलाल जूते पहन रहे हैं।पुरुषोत्तम ने लोकार्पण समारोह के मंच से एकेवीएन के सेवानिवृत्त कर्मचारी मिश्रीलाल को अतिथियों के हाथों जूते की जोड़ी भेंट करवाई।खास बात ये रही कि खुद जीतू ने नीचे झुककर मिश्रा को जूते पहनाई।इस दौरान महाजन ने कहा कि नंगे पैर रहने की शपथ अपने आप में बड़ा निर्णय होता है। जब भी पैरों में पत्थर चुभते हैं तो व्यक्ति को अधूरे संकल्प की याद दिलाते हैं।इसके बाद तालियों की गड़गड़ाहट से पूरा कार्यक्रम गूंज उठा।

इससे पहले कमलनाथ ने जूते पहनाकर और चोटी काटकर करवाया था संकल्प पूरा

इससे पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राजगढ़ के दुर्गा लाल किरार को जूते पहनाकर संकल्प पूरा करवाया था। राजगढ़ से लगभग 20 किलोमीटर दूर लिम्मबोदा गांव के रहने वाले दुर्गालाल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वियज सिंह के समर्थक हैं।  दुर्गालाल ने 15 साल पहले प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद 2003 से अब तक पैरों में जूते नहीं पहने और नंगे पैर रहने का संकल्प लिया था। अब 15 साल बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद दुर्गालाल का संकल्प पूरा हुआ और उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के निवास पर उनकी मौजूदगी में नए जूते पहने थे।खुद कमलनाथ ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। वही हाल ही में विधानसभा सत्र के दौरान जबलपुर में रहने वाले मनोज नामदेव ने प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनवाने के लिए जी-तोड़ मेहनत का संकल्प ले रखा था। संकल्प के तौर पर उन्होंने अपने बाल नहीं कटवाए थे।अब जब सरकार कांग्रेस की है, तो मनोज नामदेव तमाम कार्यकर्ताओं के साथ विधानसभा पहुंचे और  सीएम कमलनाथ से मिले और संकल्प के बारे में बताया और फिर उसके बाद सीएम ने कैंची से मनोज की चोटी काटकर उनका संकल्प पूरा कराया।