साध्वी के चुनावी कार्यक्रमों पर रहेगी केन्द्रीय संगठन की नजर, इन नेताओं को सौंपी प्रचार की जिम्मेदारी

Sadhvi's-election-program-will-be-watched-by-the-Central-Organization

भोपाल।

इस बार भोपाल लोकसभा सीट पर चुनाव एकदम रोचक होने वाला है, क्योंकि कांग्रेस ने इस बार कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह को बीजेपी के गढ़ में सेंध लगाने मैदान में उतारा है। वही बीजेपी ने भी  कट्टर हिन्दुवादी चेहरे साध्वी प्रज्ञा मैदान को मैदान में उतार कर चुनाव की परिभाषा ही बदल दी है। दिग्विजय के मैदान में आने से इस सीट को बचाना बीजेपी के लिए अग्निपरीक्षा है। चुंकी सालों से इस सीट पर बीजेपी का कब्जा रहा है, जिसे भेदने के लिए कांग्रेस ने दिग्विजय पर दांव लगाया है। हालांकि कांग्रेस और दिग्विजय के लिए इस अभेद किले को भेद पाना इतना आसान नही होगा, क्योंकि केन्द्रीय संगठन और संघ ने खुद साध्वी प्रज्ञा की मॉनिटरिंग करने का फैसला लिया है।

दरअसल, हिन्दुत्व के सहारे जीत हासिल करने की फिराक में बीजेपी ने इस बार साध्वी प्रज्ञा को मैदान में उतारा है। साध्वी प्रज्ञा ने हाल ही में बीजेपी ज्वाइन की और उन्हें पार्टी द्वारा टिकट दिया गया है। चुंकी समय कम है और कांग्रेस मालेगांव ब्लास्ट को भुनाने की तैयारी कर रही है, ऐसे में केन्द्रीय संगठन ने साध्वी का मोर्चा संभाला है। चुनाव प्रचार और मैनेजमेंट समेत तमाम कामों की मॉनिटरिंग अब प्रदेश संघठन करेगा।भाजपा के केन्द्रीय नेतृत्व ने इसके लिए पार्टी नेताओं को पल-पल की अपडेट देने को कहा है, ताकी रणनीतियों को और मजबूत कर सही दिशा देकर काम किया जा सके।

केन्द्र के निर्देश पर प्रदेश संगठन ने तय किया है कि वह साध्वी के दिनभर के कार्यक्रमों,, प्रचार-प्रसार और कार्यकर्ताओं से किए गए संवाद पर नजर रखेगा।हर सुबह इस सबकी समीक्षा की जाएगी और फिर केन्द्र को इस बारे में अवगत करवाया जाएगा।इसके लिए पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता पदाधिकारियों और चुनाव वॉर रुम पर नजर रखेंगें और दोनों की रिपोर्ट चेक करेंगें।इसके अलावा संगठन ने यह भी चर्चा की साध्वी के संबोधन और भाषण का तरीका क्या होगा। किन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाया जाएगा। कांग्रेस को किस रणनीति के तहत घेरा जाए और जीत हासिल की जाए।इन मुद्दों पर भी विचार किया गया।

इन नेताओं को साध्वी के प्रचार-प्रसार का जिम्मा

प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह

मिलन भार्गव

महेश शर्मा

सुमित रघुवंशी