सलूजा का शिवराज पर हमला, दुष्कर्म जैसे संवेदनशील मामले को बना रहे राजनीति का अखाड़ा

भोपाल। राजधानी के मनुआभान की टेकरी में 8 महीने पहले 12 साल की बच्ची के दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को रोशनपुरा चौराहे पर धरना प्रदर्शन दिया। शिवराज के इस प्रदर्शन के बाद से ही कांग्रेस लगातार उन पर हमला बोल रही है। मप्र कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा के बाद अब मुख्यमंत्री कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने भी शिवराज पर संवेदनशील विषय को राजनीति का अखाड़ा बनाने का अरोप लगाया है। 

सोमवार को मीडिया को जारी अपने बयान में नरेन्द्र सलूजा ने कहा कि जिन शिवराज सिंह की सरकार में मासूम बच्चियों से दुष्कर्म को लेकर प्रदेश, देश के शीर्ष राज्यों में वर्षों तक शामिल रहा, देशभर में बदनाम रहा, वो शिवराज आज इस मुद्दे पर भोपाल में धरना दे रहे है और ऐसे संवेदनशील विषय को भी राजनीति का अखाड़ा बना रहे है, निश्चित तौर पर उनका यह कृत्य बेहद शर्मनाक है। इसके लिए शिवराज सिंह और भाजपा को शर्म आना चाहिए। उन्होंने शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि जितनी सक्रियता वे आज विपक्ष में बैठकर दिखा रहे हैं, यदि बहन-बेटियों के सम्मान व सुरक्षा को लेकर इतनी सक्रियता अपनी 15 वर्ष की सरकार में दिखाई होती तो आज शायद उन्हें व भाजपा को विपक्ष में बैठकर धरना देना नहीं पड़ता?

सलूजा ने शिवराज से सवाल पूछते हुए कहा कि करीब 8 माह पूर्व मनुआभान टेकरी पर हुई एक मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म व हत्या की घटना को लेकर धरने पर बैठने वाले शिवराज सिंह चौहान ने पिछले 8 माह में उस बच्ची को न्याय दिलवाने के लिये क्या-क्या प्रयास किये और उस परिवार की कितनी मदद की, पहले उन्हें यह बताना चाहिए? या आज सिर्फ़ सीधे धरना देकर ही इस संवेदनशील विषय को राजनीति का चोला पहनाने का प्रयास किया?