इन दो दर्जन सीटों पर सपा-बसपा कर सकती है नतीजों को प्रभावित

Samajwadi-Party-BSP-influence-in-over-2-dozen-seats

भोपाल। समाजवादी पार्टी को भले ही पिछले चुनाव में कोई सीटों नहीं मिली हो लेकिन प्रदेश की करीब दो दर्जन सीटों पर सपा और बसपा का वोट बैंक नतीजों को प्रभावित करने की क्षमता रखता है। वह इसलिए क्योंकि इस बार भाजपा और कांग्रेस के बागी नेता सपा और बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। यही कारण है दो दर्जन सीटों पर इस बार 4 कोणीय दिलचस्प मुकाबला होने की संभावना है। 2013 में बसपा को पांच सीटे मिली थी। लेकिन सपा  खाता खोलने में असफल हुई थी। लेकिन इस बार समीकरण बदले हुए हैं। एससी एसटी एक्ट इस बार बड़ा मुद्दा बना है। इसलिए माना जा रहा है सपा-बसपा मिलकर कई सीटों पर भाजपा और कांग्रेस को नुकसान पहुंचा सकती हैं। 

इस बार विधानसभा चुनाव में कई सीटों पर रोचक मुकाबला है। सपा और बसपा की दस्तक से समीकरण बिगड़ गए हैं। सपा और बसपा के उम्मीदवारों ने मुकाबला त्रिकोणिय बना दिया है। और नतीजों का विशेषण करना इस बार बेहद मुश्किल हो रहा है। बसपा का विंध्य और चंबल में प्रभाव है। वहीं, सपा का बुंदेलखंड में काफी वर्चस्व देखने को मिल रहा है। 

राजनीति के जानकारों के मुताबिक, ग्वालियर ग्रमीण सीट पर इस बार भाजपा वर्तमान विधायक और प्रत्याशी भरत सिंह कुशवाह का सीधा मुकाबला बीएसपी के उम्मीदवार साहब सिंह गुर्जर से है। यहां कांग्रेस तीसरे स्थान पर है। शिवपुरी की पोहरी सीट पर भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों को बीएसपी के कैलाश से टक्कर मिल रही है। भाजपा से बागी हुए बाबूलाल मेवाड़ इस बार बीएसपी के टिकट पर श्योपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। वह भाजपा के लिए इस बार बड़ी मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं। 

इसी तरह, मुरैना की जौरा सीट से बीएसपी के मनीराम धाकड़, सुमावली से मानवेंद्र सिकरवार,  बलवीर सिंह दंडोतिया को बीएसपी ने मुरैना से टिकट दिया है। दिमनी से छतर सिंह तोमर, अंबह से सत्याप्रकाश जाटव भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों को कड़ी टक्कर दे रहे हैं। भिंड जिले की भिंड विधानसभा से संजीव कुशवाह और नरेंद्र कुशवाह सपा से भाजपा के राकेश सिंह को टक्कर दे रहे हैं। बीएसपी उम्मीदवार जगदीश सागर भाजपा के उम्मीदवार और मंत्री लाल सिंह आर्य को गोहद में चुनौति दे रहे हैं। टिकमगढ़ जिले की खड़गपुर सीट से बीएसपी के अजय यादव और सपा की मीरा यादव निवाड़ी से भाजपा और कांग्रेस के लिए परेशानी बने हुए हैं। 

छतरपुर जिले में चंदला सीट से एसपी के अनन्य सिंह, राजनगर के नितिन चतुर्वेदी, बिजावर सीट से राजेश शुक्ला ने भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों के लिए हालातों को जटिल बना दिया है। सतना के रैगांव सीट पर बसपा उम्मीदवार विधा उषा चौधरी, रामपुर बागेलन के रामलाखन सिंह और सतना में पुष्कर सिंह भाजपा के साथ सीधी लड़ाई में हैं। रीवा में सेमरिया से बीएसपी के पंकज पटेल, देवतालाब में सीमादेवी सिंह, मनगवां में शीला त्यागी, सिरमौर सीट पर एसपी से प्रदीप सिंह पटना और गुढ़ के कपिलध्वज सिंह ने मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है।