‘जैश सरगना मसूद अजहर का सिर काटने वाले को एक करोड़ देने का ऐलान’

sapaks-announce-booty-of-one-crore-on-terrorist-azhar-masood

भोपाल। पुलवामा में आतंकी हमले के बाद देश भर में गुस्सा और आक्रोश है। इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान समर्थित जैश ए मुहम्मद संगठन ने ली। हमले के बाद से पाकिस्तान के खिलाफ देश में जोरदार प्रदर्शन चल रहा है। इस बीच सपाक्स पार्टी ने बड़ा ऐलान कर दिया है। सपाक्स ने आतंकवादी सरगना मसूद अजहर की काटने वाले को एक करोड़ से ज्यादा का इनाम देने की घोषणा की है।

जानकारी के अनुसार जबलपुर के सपाक्स समाज के प्रदेश अध्यक्ष अमित खम्परिया ने आतंकवादी सरगना मसूद अजहर की गर्दन काटने वाले को 1 करोड़ से ज्यादा का ईनाम देने का ऐलान किया है। पाक्स समाज प्रमुख ने मसूद अजहर को चेतावनी भी दी है, कि उसे यदि लड़ने का शौक है, तो भारत के किसी भी सैनिक से खुले मैदान में दो-दो हाथ कर ले, उसे उसकी औकात पता चल जाएगी। अमित खम्परिया ने यह बयान किसी भाव आवेश में नहीं दिया है, बल्कि यह उनकी देश के शहीदों के प्रति श्रद्धांजलि भी है। इसका उदाहरण पहले भी देखने को मिल चुका है, अमित खम्परिया हर साल 15 अगस्त को देश के शहीद जवानों के सम्मान में शहीद सम्मान समारोह का भी आयोजन करते हैं, जिसमें देशभर के शहीद जवानों के परिजन शामिल होते हैं।

गौरतलब है कि पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान का चौरफा विरोध किया जा रहा है। सरकार ने भी पाक के खिलाफ कड़े कदम उठाए हैं। भारत ने पाक के मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है। वहीं, पाक से आयात होने वाले सामान पर आयात शुल्क 200 फीसदी कर दिया गया है। यही नहीं पीएम मोदी ने सेना को कार्रवाई के लिए फ्री हैंड देने की बात कही है। 

कौन है आतंकी अजहर 

किस्तान में पनाह लेकर आतंकी की फौज तैयार करने वाले इस संगठन का सरगना मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी मसूद अजहर है. माना जाता है कि इस आतंकी गिरोह ने भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों में भी आतंकी वारदातों को अंजाम दिया है। पाकिस्तानी सरंक्षण में जैश-ए-मोहम्मद का मकसद केवल कश्मीर को भारत से अलग करना है. इसकी स्थापना मसूद अज़हर ने मार्च 2000 में की थी. भारत में हुए कई आतंकी हमलों के लिए ज़िम्मेदार जैश-ए-मोहम्मद को पाकिस्तानी सरकार ने दिखावे के लिए जनवरी 2002 में बैन कर दिया था. लेकिन इसका सरगना मसूद अजहर इतना शातिर है कि उसने जैश-ए-मुहम्मद का नाम बदलकर ‘ख़ुद्दाम-उल-इस्लाम​’ कर दिया था।