19 फरवरी को पृथ्वी के 356761 किमी. नजदीक होगा सुपरमून

-Sarika-Gharu-science-specialist-told-student-about-super-moon

भोपाल।  विज्ञान संचारक सारिका ने चिनारपार्क में 19 फरवरी को दिखने जा रहे साल के सबसे नजदीकी सुपरमून का दर्शन एवं फोटोग्राफी के लिये टिप्स दिये। सारिका ने बताया कि 19 फरवरी माघ पूर्णिमा का चांद बहुत खास है। यह न केवल साल का सबसे नजदीकी सुपरमून है बल्कि इतनी पास का सुपरमून अब 21 जनवरी 2023 को होगा। विज्ञान संचारिका सारिका घारू ने बताया कि  पूर्णिमा या अमावस्या को चंद्रमा और पृथ्वी के बीच की दूरी घटते हुये उनके बीच की दूरी से 90 प्रतिशत या 362000 किमी से अधिक नजदीकी हो जाती है तो इसे सुपरमून कहा जाता है। 19 फरवरी को यह दूरी घटकर 356761 किमी रह जायेगी। इसके बाद इससे कम दूरी का सुपरमून 21 जनवरी 2023 को होगा जब यह दूरी 356569 किमी होगी।

सुपरमून माइक्रोमून की तुलना में 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत अधिक चमकदार

सारिका ने बताया कि सुपरमून माइक्रोमून की तुलना में 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत अधिक चमकदार दिखाई देता है। रविदास जयंती पर दिखने जा रहे सुपरमून को स्नोमून भी नाम दिया जा रहा है क्योंकि उत्तरी देशों मेंं इस समय बर्फबारी का आनंद लिया जा सकेगा। 

ऐसे करें मोबाइल से शूट 

-अगर आप सुपरमून को अपने मोबाइल में शूट करना चाहते है तो शहर के किसी ऐसे स्थान का चयन करें जहां पूर्व दिशा से उगते चंद्रमा को  आसानी से देखा जा सके। इसके लिये आप शाम होने के पहले ही स्थान को चुन लें। 

-अच्छा होगा कि आप अपने मोबाइल कैमरा को किसी ट्राइपॉड पर रखकर फोटोग्राफी करें। अगर यह संभव नही ंतो आप किसी ठोस सतह का स्टैंड की तरह प्रयोग करें।

-फोेटो लेते समय डिजिटल जूम का इस्तेमाल मत कीजिये इससे फोटो क्वालिटी कमजोर होगी। इसके बदले फोटो लेने के बाद आप मून की इमेज को क्राप करें।

-अगर आप कैमरे से फोटो ले रहे हो तो एक्सपोजर दिन के हिसाब से कम रखें क्योंकि चंद्रमा की तेज चमक में अधिक एक्सपोजर आपकी फोटो की क्वालिटी कम कर देगा।