सैलरी से पैसे काटे तो सिक्योरिटी गार्ड ने ले ली सुपरवाइजर जान, घटना का CCTV फुटेज आया सामने

घटना के बाद आरोपी गार्ड ने भागने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो पाया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जिससे अभी पूछताछ की जा रही है।

सैलरी काटने पर सुपरवाइजर की हत्या

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में एक सिक्योरिटी गार्ड (security guard) ने मामूली विवाद को लेकर अपने कि ऑफिस के सुपरवाइजर (supervisor) की हत्या कर दी। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी गार्ड को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक ड्यूटी और सैलरी को लेकर दोनों में विवाद हुआ जिसके बाद गार्ड ने गोली मारकर सुपरवाइजर की हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें…स्कूल टीचर ने अपनी ही नाबालिग छात्रा के साथ किया दुष्कर्म, FIR दर्ज

सैलरी को लेकर विवाद
जानकारी के अनुसार यह घटना एमपी नगर के अरेरा हिल्स की बताई जा रही है। जहां निर्माण सदन में सिक्योरिटी गार्ड के पद पर तैनात महेंद्र कुमार तिवारी सेना से रिटायर्ड है और नारियलखेड़ा के गणेश नगर निवासी 52 वर्षीय राजकुमार ठाकुर भी सेना से सेवानिवृत्त है। दोनों की ही नौकरी सर्वोदय सिक्योरिटी एजेंसी में थी। दोनों के बीच काफी समय से इसको लेकर विवाद चल रहा था। गार्ड की माने तो बीते महीने तक उसकी सैलरी 27 हजार मिलती थी लेकिन इस बार उसे सैलरी के नाम पर सिर्फ 15 हजार ही दिए गए। जो सुपरवाइजर राजकुमार की ही करतूत थी।

रोज की तरह ही गुरुवार को भी सुपरवाइजर राजकुमार अपने काम के लिए आया और इसी बीच ड्यूटी पर तैनात गार्ड महेंद्र से उसकी बहस हुई। महेंद्र का कहना था कि राजकुमार के कारण ही उसे ओवरटाइम करने को नहीं मिलता है और इसके कारण ही मेरी सैलरी काटी गई है। वहीं बहस के बीच गार्ड महेंद्र ने सुपरवाइजर को गोली मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल होकर जमीन पर गिर गया। गोली कांड के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और घायल राजकुमार को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

घटना सीसीटीवी में कैद
यह पूरी घटना वहां लगे सीसीटीवी कैमरे (cctv camera) में कैद हो गई। जिसमें साफ देखा जा सकता है कि गार्ड और सुपरवाइजर के बीच पहले बातचीत हुई । उसके बाद गार्ड ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से सुपरवाइजर को 2 गोलियां मार दी। घटना के बाद आरोपी गार्ड ने भागने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो पाया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जिससे अभी पूछताछ की जा रही है।

यह भी पढ़ें…कांग्रेस विधायक के आरोपों बोले भाजपा सांसद, कहा-15 महीने हम भी हुए प्रताड़ित, एक बार नाम नहीं आया तो तिलमिला गए