Seoni Mob Lynching: सरकार ने गठित की SIT, एसपी समेत थाने और चौकी का पूरा स्टाफ भी हटाया

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के सिवनी में दो आदिवासियों की मॉब लिंचिंग में मौत के मामलें में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा फैसला लेते हुए SIT बनाने के निर्देश दिए हैं। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के सिवनी में गौमांस की तस्करी के मामले दो आदिवासियों की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में मुख्यमंत्री ने सिवनी एसपी के साथ-साथ थाना कुरई और बादलपार चौकी के पूरे स्टाफ को तत्काल प्रभाव से हटाने के भी निर्देश भी दिए हैं। सरकार के निर्देश पर गठित एसआईटी में गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ राजेश राजोरा, राज्य सुरक्षा बल के औद्योगिक सुरक्षा बल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अखेतो सेमा और माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव श्रीकांत भनोट को शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें… गुना मामला: इस IPS ने कराई सरकार की किरकिरी, CM शिवराज का सख्त निर्णय, हटाया

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को गुना की घटना को लेकर आपात बैठक बुलाई थी और इसी बैठक में सिवनी की घटना पर भी चर्चा की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दो आदिवासियों की मौत और पूरे प्रकरण की जांच एसआईटी से कराने के निर्देश दिए। उन्होंने एसआईटी से जल्द जांच कराने को कहा है। मुख्यमंत्री ने घटना क्षेत्र के पुलिस थाना कुरई थाना क्षेत्र और बादलपार चौकी के पूरे स्टाफ को तत्काल प्रभाव से हटाने के भी निर्देश दिए है।गौरतलब है कि 2 मई को सिवनी के कुरई के सिमरिया में तीन आदिवासियों को गोकसी का आरोप लगाकर पीटा गया। एक आदिवासी गंभीर रूप से घायल और दो की मौत हो गई थी। पुलिस ने इस मामले में 9 से ज्यादा आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आदिवासियों से जुड़ी इस घटना के बाद सरकार को लेकर सिवनी में लोगों की खासी नाराजगी सामने आई थी जिसके बाद कांग्रेस ने भी इस मुद्दे में सरकार पर जमकर आरोप लगाए थे, फिलहाल सरकार के SIT गठित करने और स्टाफ को हटाने के फैसले के बाद लोगों की नाराजगी कम होने की उम्मीद की जा रही है।

Seoni Mob Lynching: सरकार ने गठित की SIT, एसपी समेत थाने और चौकी का पूरा स्टाफ भी हटाया