शिवराज ने पत्र लिख उठाए कानून व्यवस्था पर सवाल, कमलनाथ ने यूं दिया करारा जवाब

Shivraj-writes-letter

भोपाल।

भाजपा के कद्दावर नेता और नगर पालिका अध्यक्ष प्रह्लाद बंधवार की गुरुवार को सरेआम हत्या के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम कमलनाथ को पत्र लिखा है। इस पत्र में शिवराज ने प्रदेश की कानून और सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। शिवराज ने  मांग की है कि प्रह्लाद बंधवार की हत्या मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाए। वही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज के पत्र का जवाब दिया है और उचित कार्रवाई का आश्वसन दिया है, साथ ही इस पत्र को राजनैतिक हथकंडा बताते हुए लिखा है चिंता मत करिए मेरी सरकार क़ानून व्यवस्था के पालन को लेकर गंभीर है। 

जानकारी के अनुसार, नगर पालिका अध्यक्ष और भाजपा के कद्दावर नेता प्रहलाद बंधवार को गुरुवार शाम लगभग 7.10 बजे अज्ञात बाइक सवार ने जिला सहकारी बैंक के सामने गोली मार दी। हमलावर ने करीब से सिर पर गोली मारी, जिससे मौके पर ही बंधवार की मौत हो गई। पुलिस भी सूचना लगते ही मौके पर पहुंची और शव को तत्काल अस्पताल पंहुचाया गया है।  घटना की खबर क्षेत्र में आग की तरह फैल गई। घटना से उनके समर्थकों में खासा रोष है। इसके बाद बाजार भी धड़ाधड़ बंद हो गए। क्षेत्र में फिलहाल स्थिति तनावपूर्ण है।पुलिस लगातार भीड़ को छांटने के साथ तमाम सीसीटीवी कैमरे खंगालने में लग गई है। पुलिस के अनुसार जिले सहित आसपास के जिलों की भी सीमा सील कर संदिग्ध की धरपकड़ के सभी संभव प्रयास शुरु कर दिए गए हैं। 

इस मामले में जहां गुरुवार को ही प्रदेश भाजपा अध्‍यक्ष राकेश सिंह और भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस सरकार में कानून व्‍यवस्‍था को निशाने पर लिया है। वही पूर्व सीएम शिवराज सिेंह चौहान ने ट्वीट कर मुख्‍यमंत्री कमलनाथ के नाम एक पत्र लिखा है। शिवराज सिंह ने सीएम कमलनाथ को लिखे पत्र में प्रदेश की कानून और सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। शिवराज ने इंदौर में हुए बिल्डर संदीप अग्रवाल की हत्या का भी जिक्र करते हुए मांग की है कि प्रह्लाद बंधवार की हत्या मामले की उच्च स्तरीय जांच की जाए। साथ ही संदीप अग्रवाल के हत्यारोपियों पर भी कड़ी कार्रवाई की जाए।वही उन्होंने दूसरा ट्वीट कर लिखा है मैं आज सुबह शुक्रवार मंदसौर के दिवंगत नेता प्रह्लाद बंधावर के परिजनों से मिलने जा रहा हूँ। कांग्रेस सरकार के आते ही अपराधियों के हौसले बुलंद हो गये हैं, लेकिन मैं चुप नहीं बैठूंगा। मैंने कमलनाथ को इस संदर्भ में पत्र लिखकर जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है। न्याय मिलने तक लड़ूंगा।

कमलनाथ ने तुरंत दिया पत्र का जवाब, दिलाई भाजपा शासनकाल की याद

वही सीएम कमलनाथ ने भी बिना देर किए शिवराज सिंह के पत्र का जवाब दिया है। सीएम ने लिखा है । इंदौर में हुई संदीप अग्रवाल की हत्या की घटना व मंदसौर में हुई नगरपालिका अध्यक्ष प्रह्लाद बंधवार की हत्या की घटना बेहद दुखद व निंदनीय है। मैंने पुलिस प्रशासन को सख़्त निर्देश दिये हैं कि दोनों हत्याकांड की शीघ्र जांच कर आरोपियों को गिरफ़्तार कर, पूरे मामले का जल्द से जल्द ख़ुलासा किया जाए। दोषी कितना भी बड़ा हो, उसे बख़्शा नहीं जाएगा। आप विश्वास रखिये, आरोपी शीघ्र ही सलाखों के पीछे होंगे। मेरी सरकार क़ानून व्यवस्था के पालन को लेकर गंभीर है। इसमें किसी प्रकार के अपराधी के लिये कोई रियायत नहीं है।कमलनाथ ने लिखा है  पत्र के माध्यम से लगाये गये आरोपों से ऐसा लग रहा है कि आपका यह पत्र अपराधों के प्रति चिंता कम, राजनीति से प्रेरित ज़्यादा लग रहा है। आप चिंता मत करिये मेरी सरकार में हमेशा पुलिस का ही मनोबल ऊंचा रहेगा। मेरी सरकार कभी भी गुंडों-अपराधियों का मनोबल ऊंचा नहीं होने देगी और ना ही उनके हौसले बुलंद होने देगी। यह ज़रूर सच है कि पिछले कई वर्षों से उनके मनोबल व हौसलों में जो वृद्धि हुई है, उसे मेरी सरकार जड़ से ख़त्म कर करके रहेगी।

इतना ही नहीं सीएम कमलनाथ ने शिवराज के शासन में 2 साल पहले हुए ट्विंकल डागरे हत्याकांड पर अभी तक कार्रवाई नहीं किए जाने पर सवाल पूछ लिया। कमलनाथ ने लिखा कि- इंदौर की ही एक बेटी ट्विंकल डागरे जो कि पिछले 2 वर्षों से ग़ायब थी, जिसका परिवार पिछले 2 वर्षों से ही उसकी हत्या की आशंका जताकर दर- दर गुहार लगा रहा था। आरोपियों को राजनैतिक संरक्षण प्राप्त होने के आरोप भी लगाता रहा। उसके हत्याकांड के 2 वर्ष बाद अभी हाल ही में ख़ुलासा हुआ है। बड़ी जघन्यता से उसकी हत्या की गयी है। मैंने इस हत्याकांड के ख़ुलासे के बाद इसकी भी जांच के आदेश पुलिस प्रशासन को दिये है कि पता लगाया जाये कि क्या कारण रहा जो पिछले 2 वर्षों में इस केस का ख़ुलासा नहीं हुआ। आरोपियों को किसका राजनैतिक संरक्षण प्राप्त था, ख़ुलासा किया जावे। इसके दोषियों को बख़्शा नहीं जावे।

शिवराज ने पत्र लिख उठाए कानून व्यवस्था पर सवाल, कमलनाथ ने यूं दिया करारा जवाब