शिवराज ने फिर दी चेतावनी, कहा- गायों पर राजनीति ना करे कमलनाथ वरना…

Shivraj's-warning-to-KamalNath---Do-not-politics-on-cows-

भोपाल।

लोकसभा चुनाव से पहले गायों को लेकर फिर सियासत गर्मा गई है। हाल ही में कमलनाथ सरकार ने ऐलान किया था कि प्रदेश में चार महिने में एक हजार गौशालाएं खोली जाएंगी।हर गाय को 20  रुपये का अनुदान भी दिया जाएगा।सरकार के इस फैसले का पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वागत किया है। साथ ही चेतावनी भी दी है कि गायों को लेकर कोई राजनीति ना होनी चाहिए , उनके दाने, पानी और चारे की सही व्यवस्था होनी चाहिए वरना हम देखेंगें फिर।

दरअसल, आज भोपाल में मीडिया से चर्चा के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि गाय आस्था और श्रद्धा का विषय है। कमलनाथ जी गाय को राजनीतिक मुद्दा न बनाएं। मैं उनके गोशाला खोलने के कदम का स्वागत करता हूं, लेकिन साथ ही यह भी जरूरी है कि गायों के दाने, पानी, भूसे का समुचित इंतजाम हो, वरना गो माता की असमय मौत हो जाती है।हालांकि उन्होंने कहा कि हम किसी पर कोई आरोप प्रत्यारोप नही लगा रहे है, लेकिन  इशारों ही इशारों में कमलनाथ सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ऐसा हुआ तो फिर हम देखेंगें।

कही सिमी जैसे तत्व फिर से एक्टिव होने लगे हो

वही प्रदेश में हो रही एक के बाद घटना को लेकर शिवराज ने चिंता जाहिर की ।कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए उन्होंने कहा कोई आश्वस्त है कि अब प्रदेश में दूसरी सरकार आ गई है, अब हमारा कुछ नहीं बिगड़ेगा। कहीं ऐसा तो नहीं कि सिमी जैसे तत्व तो फिर से एक्टिव होने लगे हों, जो आतंक और अराजकता का माहौल बनाना चाहते हों। सरकार को इन पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए, बच्चों को बचाने आए लोगों पर मुकदमा दर्ज करने की जरूरत नहीं है। 

गौरतलब है कि कमलनाथ सरकार योगी सरकार की तर्ज पर प्रदेश में गौशालाएं खोलने जा रही है। सरकार ने फैसला किया है कि अगले चार माह में मध्यप्रदेश सरकार एक हजार गौशाला बनवाएगी। इसमें एक लाख निराश्रित गौ-वंश की देख-रेख होगी और 40 लाख मानव दिवसों का निर्माण होगा। इसके लिए 450 करोड़ रुपये का प्रबंध किया जाएगा। पहले चरण में सौ करोड़ रुपये इस काम में खर्च होंगे। आठ से 10 पंचायतों के बीच एक गौशाला बनाई जाएगी। प्रति गाय प्रतिदिन 20 रुपये तक सबसिडी देने की तैयारी है। पशुपालन विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार कर लिया है।मध्य प्रदेश की इन हजार गौशालाओं के लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में ज़िला स्तरीय एक समिति पहले जगह चिन्हित करेगी। इसके बाद वहां शेड, ट्यूबवेल, चारागाह विकास, बायोगैस प्लांट के इंतजाम किए जाएंगे। यहां आने वाले गायों के लिए चारे और पशु आहार का पर्याप्त व्यवस्था भी की जाएगी।