smartphones-will-be-given-to-women-for-security-said-home-minister-bala-bachchan

भोपाल

लोकसभा चुनाव से पहले प्रदेश की कमलनाथ सरकार हर वर्ग को साधने में जुटी हुई है।इसी सिलसिले में किसानों, कर्मचारियों और युवाओं के बाद अब महिलाओं को बड़ी सौगात देने जा रही है। सरकार ने फैसला किया है कि वह महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए जल्द ही स्मार्ट फोन बांटेगी। गृहमंत्री बाला बच्चन ने खुद यह ऐलान किया है। बच्चन ने कहा है कि हमारी सरकार बहुत जल्द 17 से 45 साल की महिलाओं की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें स्मार्ट फोन वितरित करेगी, ताकि विषम परिस्थिति में बटन दबाने के कुछ ही देर में पुलिस पहुंच सकेगी।

दरअसल, शुक्रवार को प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन ने महिला दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने सेंधवा पहुंचे थे, जहां उन्होंने ये बाते कही। बच्चन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के कार्यक्रम में माता-बहनों के बीच आने का मौका मिला, मैं खुशकिस्मत हूं। हमारी सरकार ने चुनाव के समय माता-बहनों की सुरक्षा और प्रदेश में कानून-व्यवस्था का वचन दिया था। गृह विभाग मेरे पास है। प्रदेश का कानून हमेशा माता-बहनों की सुरक्षा में तैनात रहेगा। हमारी सरकार बहुत जल्द 17 से 45 साल की महिलाओं की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें स्मार्ट फोन वितरित करेगी, ताकि विषम परिस्थिति में बटन दबाने के कुछ ही देर में पुलिस पहुंच सकेगी। 

बच्चन ने कहा कि इस स्मार्ट फोन में पूरा सिस्टम रहेगा। जहां भी माता-बहनों को लगेगा कि उन्हें सुरक्षा की जरूरत है, उसका उपयोग करते ही कानून आपके पास पहुंचेगा और आरोपित को गिरफ्तार किया जाएगा। कई माता-बहनें जो स्व-सहायता समूह के माध्यम से काम कर रही हैं, उनके कर्ज को भी जल्द माफ किया जाएगा। बेटियों की शादी के लिए कन्यादान योजना के तहत 51 हजार की राशि देना शुरू हो गया है।सरकार जनता से किए गए हर वादे को पूरा करेगी।

बता दे कि बीते दिनों कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष ने कमलनाथ सरकार की जमकर घेराबंदी की थी। सड़क से लेकर सदन तक कानून व्यवस्था को लेकर सरकार का घेराव किया गया था।जगह जगह प्रदर्शन और सरकार के पूतले फूंके थे। यहां तक की विपक्ष ने गृहमंत्री के इस्तीफे तक की मांग कर दी थी। इसके बाद कांग्रेस में जमकर हड़कंप मच गया था और बात हाईकमान तक पहुंची गई थी। बीते दिनों तो मंत्रियों के विभाग बदले जाने की भी खबरे सामने आई थी। मुख्यमंत्री कमलनाथ और हाईकमान भी मंत्रियों के काम से खुश नही है।हालांकि इसके लिए उन्होंने मंत्रियों को एक और मौका दिया गया है।जिसके बाद गृहमंत्री ने ये ऐलान किया है। चुंकी लोकसभा चुनाव में सरकार कोई रिस्क नही लेना चाहती।हालांकि यह कितना कारगार साबित होगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।