भोपाल| मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में राज्यसभा (Rajyasabha) की 3 सीटों के लिए 19 जून को वोटिंग होना है| उससे पहले भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है| इसी सिलसिले में पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamalnath) के आवास पर बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई। सूत्रों के मुताबिक दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह समेत कांग्रेस के छह विधायक बैठक में नहीं पहुंचे| चुनाव से पहले हुई इस बैठक में विधायकों के गायब रहने से चर्चाओं का बाजार गर्म है|

राज्यसभा के चुनाव की तैयारियों को लेकर बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के निवास पर दोपहर 12 बजे से हुई बैठक में प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक भी पहुंचे। इस बैठक में कांग्रेस के छह विधायक नहीं पहुंचे| के पी सिंह, लक्ष्मण सिंह, वीर सिंह भूरिया, रवि जोशी, बाल सिंग मेडा, कुणाल चौधरी बैठक में शामिल नही हुए| हालांकि कुणाल चौधरी अभी बीमार चल रहे हैं। लेकिन अन्य विधायकों की गैरमौजूदगी पर सवाल उठ रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में माॅकपोल के जरिए विधायकों को वोट करने की जानकारी दी गई है। इसमें खासतौर पर प्रथम वरीयता में राज्यसभा के उम्मीदवार पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह का नाम रखा गया है, उन्हें कांग्रेस के कौन से 52 विधायक वोट करेंगे, यह तय किया गया| निर्दलीय विधायक केदार डावर और विक्रम राणा सिंह ने भी मॉक पोल में नहीं लिया| राज्यसभा के लिए हुई मॉकपोल से विधायक गायब रहे| अब गुरूवार को एक बार फिर विधायक दल की बैठक होगी| इसमें सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों को भी कांग्रेस ने बुलाया है|

मध्यप्रदेश की तीन राज्यसभा सीटों के लिए होने वाले चुनाव के लिए भाजपा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और प्रो सुमेर सिंह सोलंकी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है| वहीं कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया को राज्यसभा चुनाव के लिए खड़ा किया है| शुक्रवार को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव होना है|