राज्य सरकार का बड़ा फैसला, अब क्लर्क, पटवारी और आरआई बनेंगे अफसर

राजस्व अमले में उत्साह एवं संचार के लिए राजस्व मंत्री राजपूत की एक और पहल

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के राजस्व विभाग (MP Revenue Department) ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए लंबे समय से रुकी विभागीय कर्मचारियों से नायब तहसीलदार के पदों की पूर्ति परीक्षा के माध्यम से विभाग में कार्यरत लिपिक संवर्ग, पटवारियों एवं राजस्व निरीक्षकों से भरने का फैसला किया है।

प्रदेश के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि विभागीय परीक्षा के माध्यम से 62 नायब तहसीलदार के पदों की पूर्ति की जाएगी। उन्होंने बताया कि किसानों की जमीन संबंधी समस्याओं के निराकरण की दिशा में यह प्रयास किया गया है। मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि इस भर्ती प्रक्रिया से पदों की पूर्ति होने पर लंबित राजस्व प्रकरणों को सुलझाने में बड़ी मदद मिलेगी। समय पर प्रकरणों का निपटारा किया जा सकेगा। राजपूत ने बताया कि मध्यप्रदेश जूनियर सेवा नियम 2011 के नियम 6 अनुसार 5 फीसदी पद राजस्व विभाग अंतर्गत लिपिक संवर्ग, पटवारी और राजस्व निरीक्षक से सीमित प्रतियोगिता परीक्षा के माध्यम से नायब तहसीलदारों के पदों को भरे जाने के निर्देश हैं। उसी तारतम्य में परीक्षा के माध्यम से 62 तहसीलदारों की भर्ती जल्द संपन्न कराई जाएगी।

पीईबी कराएगा परीक्षा

राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि राजस्व विभाग प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के माध्यम से 62 नायब तहसीलदार के भर्ती परीक्षा को संपन्न करवाएगा। लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के बाद अभ्यर्थियों की सूची प्रकाशित की जाएगी। इसके बाद वरीयता के आधार पर चयन किया जाएगा।