सिंधिया के खिलाफ बोलने वाले कांग्रेस नेता रिंकू मावई पार्टी से बाहर

statement-against-scindia--congress-leader-prabal-pratap-rinku-mawai-out-from-the-congress-

भोपाल/ग्वालियर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करना कांग्रेस नेता प्रबल प्रताप सिंह उर्फ रिंकू मावई  को महंगा पड़ा है| पार्टी ने इसे अनुशानहीनता मानते हुए कांग्रेस से बाहर कर दिया है| रिंकू मावई ने एक सभा में नाम लिए बिना ही सिंधिया के खिलाफ टिप्पणी की थी| जिसका वीडियो वायरल हुआ था| जिसके बाद सिंधिया समथक मंत्री और विधायक ने भी इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कांग्रेस नेता रिंकू मावई को पार्टी से बाहर करने की मांग की थी| 

दरअसल,  ग्वालियर के ओहदपुर गांव में हुई एक सभा में कांग्रेस के विधायक रह चुके स्वर्गीय सोबरन सिंह मावई के बेटे प्रबल प्रताप उर्फ रिंकू मावई ने सिंधिया का नाम लिए बिना उन पर जमकर निशाना साधा। मावई ने यहां तक कह दिया कि सब जानते हैं कि ग्वालियर में  कांग्रेसियों को चुनाव दिल्ली में बैठा एक नेता हरवाता है। मावई ने कांग्रेसियों को हिदायत दी कि वे गुलामी छोड़ दे जिस से ढाई ढाई सौ गाड़ियों का काफिला लेकर चलने वाले नेता खुद उनके घर आकर उनकी पूछ परख करना सीख ले। मावई ने यह भी कहा कि उन्होंने अपनी गुलामी छोड़ दी है और अपनी बिछिया चूड़ी और सिंदूर चंबल नदी में बहा दिए हैं। मावई ने जिस समय सभा को संबोधित किया कांग्रेस के प्रत्याशी अशोक सिह भी वहां मौजूद थे।  इस सभा का वीडियो वायरल हुआ था| 

6 साल के लिए निष्कासित 

पार्टी ने रिंकू मावई के वायरल वीडियो को संज्ञान में लेते हुए इस गंभीर अनुशासनहीनता माना| कांग्रेस कमेटी ने पत्र जारी कर उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया है| आदेश में कहा गया है कि प्रबल प्रताप सिंह पूर्व उपाध्यक्ष नगर पालिका मुरैना ने विगत दिनों ग्वालियर में एक चुनाव बैठक में कांग्रेस पार्टी की रीति नीति एवं वरिष्ठ नेताओं के विरुद्ध असम्मानजनक बाते की है| यह आचरण अनुशासनहीनता की श्रेणी में आता है| पार्टी ने रिंकू मावई को कांग्रेस पार्टी की सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है| 

मंत्री और विधायक ने की थी कार्रवाई की मांग 

वीडियो वायरल होने के बाद सिंधिया समर्थकों का गुस्सा सातवे आसमान पर पहुँच गया। ग्वालियर के सिंधिया  समर्थक विधायक और मंत्री, रिंकू माबई के खिलाफ खड़े हो गए । प्रदेश के खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने भी रिंकू मावई के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए उन्हें पार्टी से बाहर करने की मांग की थी| उन्होंने कहा था कि अनुशासनहीनता किसी भी हालत में स्वीकार नहीं की जाएगी। ऐसे नेताओं का साथ देने या उनका सम्मान करने वाले कांग्रेसी नहीं हो सकते। तोमर ने कहा कि आज वरिष्ठ नेतृत्व के कारण ही आज हम प्रदेश में सरकार बना पाए हैं। ऐसे अनर्गल बयान देने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। मंत्री तोमर के अलावा ग्वालियर पूर्व के विधायक मुन्नालाल गोयल ने भी रिंकू माबई के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी| 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here