एसटीएफ ने पकड़ी 200 साल पुरानी अष्‍टधातु की मूर्ति, दो संदिग्ध गिरफ्तार

301

भोपाल| एसटीएफ की जबलपुर इकाई को बड़ी सफलता मिली है| एसटीएफ ने दो संदिग्‍ध व्‍यक्तियों से पुरातात्विक महत्‍व की अष्‍टधातु की मूर्ति बरामद की है|  मूर्ती अष्‍ट धातु की लगभग 200 वर्ष पुरानी, और लगभग 6 किलोग्राम वजनी बताई जा रही है| मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर कार्रवाई करने के आधार पर एसटीएफ ने जबलपुर स्थित पनहरा पेट्रोल पम्‍प जीसीएफ फैक्‍ट्री के समीप दो संदिग्‍ध व्‍यक्तियों को पकड़ा गया। संदिग्‍धों की तलाशी ली जाने पर उनसे अष्‍टधातु की एक प्राचीन मूर्ति बरामद हुई। एसटीएफ के अनुसार यह मूर्ति कहीं से चुराई गई भी हो सकती है।

जानकारी के मुताबिक पूछताछ पर दोनों संदिग्‍ध व्‍यक्ति इस मूर्ति के संबंध में न तो कोई वैध दस्‍तावेज दिखा पाए और न ही संतोषजनक जवाब ही दे पाए। एसटीएफ ने आरोपी छोटे लाल निवासी मदधेपुर जिला रीवा व ज्ञानेन्‍द्र उर्फ जोगी विश्‍वकर्मा निवासी ग्राम बेला जिला सतना के खिलाफ इस्‍तगाशा कायम कर उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया है।

एसटीएफ जबलपुर इकाई से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार जप्‍त मूर्ति की जाँच उपसंचालक पुरातत्‍व अभिलेखागार एवं संग्रहालय जबलपुर से कराई गई है। परीक्षण रिपोर्ट में बताया गया है, की जप्‍तशुदा मूर्ति एक स्‍त्री की प्रतिमा है जो लगभग 200 वर्ष पुरानी है। मूर्ति अष्‍ट धातु और लगभग 6 किलोग्राम वजनी है। दो भुजा वाली यह स्‍थानक प्रतिमा विभिन्‍न वस्‍त्राभूषणो से सुसज्जित है। प्रतिमा के गले में हार, बाजूवंद, कंगन, पैरो में कड़े और पायजेब, कमरबंध एवं  अधोवस्‍त्र धारण किये हुये है। प्रतिमा के नाक एवं कान के आभूषण नदारद हैं, सिर्फ उनके छिद्र दिखाई दे रहे हैं। सिर पर आकृति को काटे जाने के निशान हैं, केश विन्‍यास सुघण एव पीछे जूड़ा बना हुआ है। 

जिस किसी व्‍यक्ति को यादि इस मूर्ति के संबंध कोई जानकारी हो तो वह एसटीएफ इकाई जबलपुर( प्रथम तल साईबर सेल बिल्डिंग कार्यालय डीआईजी परिसर रामपुर, जबलपुर) से संपर्क कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here