कांग्रेस के किनारे और भाजपा के हमले के बाद बैकफुट पर सुरेश राजे, मांगी इमरती देवी से माफी!

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। डबरा विधानसभा सीट (Dabra Assembly Seat) से कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे (Suresh Raje) उपचुनाव से पहले बैकफुट पर आ गए है। राजे ने कैबिनेट मंत्री इमरती देवी(Imarti Devi) को लेकर दिए गए विवादास्पद बयान को लेकर माफी मांग ली है।उनका कहना है कि अगर किसी को मेरे बयान से ठेस पहुंची है तो मैं माफी मांगता हूं, लेकिन इसके बावजूद अभी मामला शांत नही हुआ है। राजे की इस माफी के बाद एक बार फिर बीजेपी नेता नेहा बग्गा का बयान सामने आया है।

बग्गा का कहना है कि अहंकार भी और माफी भी। सुरेश राजे जी आज तो आपने “Sorry” कह दिया पर यह याद रखियेगा आप चुनाव मैदान में है जनता महिलाओं का अपमान कभी भी स्वीकार नही करेगी। मुद्दों पर आधारित राजनीति कीजिये दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा।इससे पहले रविवार को बग्गा ने कहा था कि कांग्रेस(Congress) पार्टी राजे को पार्टी से बाहर करे। देश प्रदेश की जनता ने देखा है तंदूर कांड रचने और अंजाम देने वाली कांग्रेस को, महिलाओं को टंच माल कहने वाली कांग्रेस, चाहे जीतू पटवारी हो या शशांक भार्गव कांग्रेसी नेताओं द्वारा महिलाओं का अपमान किया जाता है। जिस पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष महिला है उस पार्टी में महिला का अपमान पार्टी के बाहर अपमान प्रदेश की महिला का अपमान दुखद और निंदनीय है

दरअसल, शनिवार को कांग्रेस नेता और ग्वालियर की डबरा सीट से चुनाव प्रत्याशी सुरेश राजे (Suresh Raje) ने शिवराज सरकार की मंत्री इमरती देवी को लेकर विवादित बयान दे दिया था। उन्होंने कहा था कि इमरती देवी (Imarti Devi) से कोई पूछे की उनके पति कौन हैं और क्या करते हैं? आखिर उन्होंने राजनीतिक जीवन में अपने पति का उल्लेख क्यों नहीं किया? सुरेश राजे यहीं नहीं रुके, उन्होंने इमरती देवी से यहां तक पूछ डाला कि आखिर कारण क्या है कि वे अपने पति के बारे में नहीं बताती? साथ ही सुरेश राजे ने कहा कि वह मुझे अपना समधी बताती हैं, जबकि मेरे उनसे कोई संबंध नहीं हैं। जिसपर इमरती देवी ने पलटवार करते हुए कहा था कि उन्होंने अगर अपनी पत्नी के साथ फोटो खिंचवाये हो तो व्हाट्सएप पर डाल दें। जो इस तरह की हलकी और गन्दी बातें करते हैं वो राजनीतिक लोग नहीं होते। जो लोग नीचता की बात करते हैं वो राजनेता बन ही नहीं सकते।इसके बाद बीजेपी ने भी सार्वजनिक माफी के साथ राजे को पार्टी से बाहर निकालने की मांग उठाई थी।

कांग्रेस के किनारे के बाद बैकफूट पर राजे
इधर, विवाद बढता देख कांग्रेस ने भी किनारा कर लिया था। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने इसे उनके निजी विचार बताए थे,इसे पार्टी से ना जोड़ने की बात कही थी। कांग्रेस प्रवक्ता विभा पटेल ने भी कहा था कि सुरेश राजे का बयान उनका निजी है, पार्टी उनके बयान से इत्तेफाक नहीं रखती है।माना जा रहा है कि उपचुनाव से पहले कांग्रेस कोई बखेड़ा नही करना चाहती, ताकी चुनाव में किसी भी तरह का कोई नुकसान हो इसी के चलते राजे के बयान से पल्ला झाड़ लिया है। वही अंदरखानों से खबर है कि कांग्रेस के इस एक्शन के बाद ही राजे ने सॉरी कहा है, लेकिन बीजेपी इस मुद्दे को ढाल बनाकर डबरा विधानसभा में भूनाने की तैयारी में जुट गई है।