निलंबित टीआई का सोशल मीडिया पर छलका दर्द

भोपाल।

धार मॉब लिचिंग मामले में निलंबित हुए टीआई युवराज सिंह चौहान ने अपना दर्द सोशल मीडिया पर बयां किया है।सोशल मीडिया पर अपनी पोस्ट में युवराज ने लिखा है कि इस घटना के कारण भले ही उन्हे निलंबित कर दिया गया है लेकिन उन्हें इस बात का संतोष है की भीड़ से 5 लोगों को बचाकर उन्होंने अस्पताल पहुंचाया और उनकी जान बचाई। उन्होंने एक वीडियो शेयर कर खुद को बेकसूर बताया। वही अपने काम को सही ठहराया है।

युवराज सिंह ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा है ‘मनावर थाना क्षेत्रान्तर्गत ग्राम बोरलाय में हिंसक भीड़ को आंसू गैस से तितर-बितर कर मैंने मेरे पुलिस बल के द्वारा बमुश्किल 5 घायलों को मनावर अस्पताल पहुंचाया। मैं अपने और मेरे साथियों को कर्तव्य से संतुष्ट हूं।भले ही मुझे और मेरे साथियों को निलंबित कर दिया गया. नर्मदे हर हर हर।’

बता दे कि इस मामले में पुलिस महानिदेशक वीके सिंह ने टीआई युवराज सिंह, एएसआई नंदलाल सलोने सहित 6 लोगों को निलंबित कर दिया है। मामले की जांच के लिए एडिशनल एसपी देवेंद्र पाटीदार के नेतृत्व में एसआईटी टीम का गठन भी किया गया है।वही पुलिस ने इस मामले में भाजपा नेता और ग्राम जूनापानी के पूर्व सरपंच रमेश जूनापानी सहित चार को गिरफ्तार किया है।इधर मामले की पड़ताल के दौरान खंगाले गए वीडियो फुटेज के आधार पर 14 लोगों की पहचान की गई है जिनकी तलाश में पुलिस टीम जुटी है।

निलंबित टीआई का सोशल मीडिया पर छलका दर्द