चर्चा का विषय बना कलेक्टर का ‘सफाई अभियान’, CM कमलनाथ ने भी की जमकर तारीफ

-the-cleanup-campaign-of-the-collector

विदिशा/भोपाल।

आज-कल में प्रदेश में मानसून दस्तक देने वाला है, लेकिन अभी तक शहर के नाले और नालियों की सफाई नहीं हो पाई है, ऐसे में निचली बस्तियों में पानी भरने की संभावना बढ़ सकती है, इसी के चलते जिले के कलेक्टर कौशलेन्द्रसिंह ने शहर का स्वयं मोर्चा संभाला हुआ हैं और युद्धस्तर पर सफाई में जुटे हुए है। वे लगातार शहर के नाले-नालियों को खुद फावड़ा-तसला लेकर सफाई कर रहे है, इस काम में उनके साथ स्थानीय लोगों के साथ प्रशासनिक अमला भी जुटा हुआ है।कलेक्टर के इस सराहनीय कदम के बाद पूरे प्रदेश में उनकी चर्चा हो रही है।वही उनके इस जज्बे और जूनून को देखते हुए सीएम कमलनाथ ने भी उनकी तारीफ की है और दूसरे के लिए प्रेरक बताया है।

सीएम कमलनाथ ने ट्वीटर के माध्यम से लिखा है कि विदिशा कलेक्टर व उनकी टीम द्वारा सफ़ाई व्यवस्था को लेकर किया जा रहा कार्य सराहनीय व प्रशंसनीय है। यह दूसरों के लिये प्रेरक भी है,महात्मा गांधी जी का यही संदेश है कि कोई कार्य छोटा नहीं होता है,ठान लिया जाये तो हर चीज़ संभव है।

वही कलेक्टर कौशलेंद्र सिंह का कहना है कि बारिश के पूर्व अभियान चलाकर शहर के नाले-नालियों को साफ किया जाएगा। जिसमें जनप्रतिनिधियों के अलावा क्षेत्र के रहवासी भी जनभागीदारी निभाएंगे। अब तक शहर के नाले नालियों की सफाई नहीं हो पाई है। जिसके कारण निचली बस्तियों में जलभराव का खतरा बना हुआ है।उन्होंने कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त रखना सभी लोगों को कर्तव्य है। 30 जून तक का टारगेट तय किया गया है। 

बता दे कि पिछले साल नपा का मई के आखिरी सप्ताह में सफाई अभियान शुरू हुआ था और जून के पहले सप्ताह तक काम हो चुका था। शहर के नालों में सफाई में करीब 15 दिन का वक्त लग सकता है। यदि तेज बारिश हुई तो शहर के सैकड़ों घरों में पानी भरेगा। बारिश में शहर में होने वाली परेशानी की आशंका को देखते हुए जिला प्रशासन को आगे आना पड़ा। सफाई शुरू करने का अभियान कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रमसिंह, एसडीएम लोकेंद्रसिंह सरल, तहसीलदार आशुतोष शर्मा, सीएमओ सुधीर सिंह ने किया। इसके अलावा शहर के पार्षद भी इस अभियान में शामिल हुए। ताकि अमला आगे सफाई का काम करता रहे।