हाथ ठेले पर सामान लादकर इंदौर से भोपाल पहुंचा परिवार, 7 दिन में तय किया रास्ता

भोपाल

लॉकडाउन (lockdown) के इस कठिन समय में इंदौर (indore) में रह रहा भोपाल (bhopal) का एक परिवार (family) हाथ ठेले पर सवार होकर इंदौर से भोपाल पहुंचा है। दरअसल सोमवार को एक व्यक्ति अपनी पत्नी और बच्ची के साथ ठेले पर बैरागढ़ (bairagarh) की सीमा पर मिला जिसे पुलिस (police) ने तत्काल क्वारेंटाइन किया।पूछताछ पर पता चला कि व्यक्ति इंदौर में सब्जी बेचा करता था और बैरागढ़ में उसकी मां रहती है। पिछले दो महीने से वह घर से दूर था और उसकी मां को उसकी बहुत चिंता हो रही थी। इंदौर में सब्जी का ठेला लगाने वाले इस व्यक्ति की रोजी रोटी लॉकडाउन में बंद हो गई थी और ऐसे में उसके पास घर लौटने के सिवा कोई चारा न बचा था। आवागमन का कोई साधन न होने के कारण वो व्यक्ति 4 मई को भोपाल के लिए निकला, हाथ ठेले पर सामान लादकर ये परिवार इंदौर से भोपाल पैदल पहुंचा है।

हाथ ठेले से निकला ये शख्स रास्ते में कई जगह ढाबे पर रुका और ढाबा संचालकों ने उसे खाना खिला कर उसका और उसके परिवार का पेट भरा। सोमवार को वह दोपहर में भोपाल पहुंच गया। यानी सात दिन के सफर के बाद उसे उसका मुकाम मिल गया। हालांकि अभी उसे मां से मिलने के लिए 14 दिन का क्वारेंटाइन पूरा करना पड़ेगा, लेकिन सुकून यह है कि वह अब अपने शहर में आ गया है।