एमपी में नयी सरकार भी नही लगा पा रही डंपरो पर लगाम

The-new-government-is-not-able-to-control-the-damper-in-mp

भोपाल। 

मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तित होने के बावजूद भी रेत के ओवर लोड डंपरों से हादसों का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा है। आए दिन रेत से ओवरलोड डंपर इंसानों की जान ले रहे है। इसी के चलते शनिवार देर रात प्रदेश के सीहोर जिले में बड़ा सड़क हादसा हो गया, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई। हालांकि यह पहला मामला नही है इसके पहले सैकड़ों लोग डंपर के शिकार हो गए है, बावजूद इसके सरकारे इन डंपरों पर रोक लगाने में कामयाब नही हो पा रही है। विपक्ष में रहकर कांग्रेस खुद इस मुद्दे को लेकर शिवराज सरकार को घेरती रही थी, लेकिन अब सत्ता में आने के बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। प्रदेश में नई सरकार के आने के बाद भी बेलगाम डंपरो पर लगाम नही पा रही है।

दरअसल, शनिवार देर रात सीहोर जिले के शाहगंज थाना क्षेत्र में रेत के डंपर ने मोटरसाइकल सवार तीन लोगों को कुचल दिया। तीनों युवकों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। प्रशासन की चेतावनी के बावजूद डंपर चालकों पर लगाम नहीं लग पा रही है और आए दिन हादसे हो रहे है। हैरानी की बात तो ये है कि सीहोर कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा ने आदेश जारी हुए हैं कि रात में डंपर चालक रेत नहीं भरेंगे। इसके बाद भी शनिवार देर रात 12 बजे शाहगंज थाने क्षेत्र में बखतरा बाड़ी रोड पर रेत भरने जा रहे डंपर ने मोटर सायकल सवार तीन युवाओं को टक्कर मार दी। चंदबार गांव के तीन युवक शिवम चौहान, अजय चौहान और दीपक चौहान ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इस घटना को लेकर रविवार को स्थानीय लोगों में गुस्सा दिखाई दे रहा है।  

गौरतलब है कि पुलिस विभाग व प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद सड़कों से ओवरलोड डंपरों का पहिया रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ओवर लोड डंपरों के कारण आए दिन हादसे हो रहे हैं। हादसों में कोई अपना बेटा, भाई और सुहाग खो रहा है तो कोई हमेशा के लिए शारीरिक अपंगता झेल रहा है।बावजूद इसके तेज रफ्तार गाड़ियां मौत बनकर दौड़ रही है। ओवरलोड डंपर पर क्षमता से अधिक रेत का परिवहन किया जा रहा है।देर रात डंपर निकाले जा रहे है।प्रदेश की सड़कों पर यमदूत बन खुलेआम यातायात के निमयों की धज्जियां उड़ा रहे ओवरलोड डंपरों पर सरकारे भी इस समय कार्रवाई करने में असफल साबित हो रही है।