कमलनाथ सरकार के मंत्री का बेतूका बयान- ये UP का मामला, वहां BJP की सरकार, इस्तीफा देना चाहिए

The-statement-of-the-minister-of-KamalNath-this-should-be-the-case-of-the-UP

भोपाल

 चित्रकूट से अगवा किए गए जुड़वां बच्चों की निर्मम हत्या के बाद प्रदेश में बवाल मच गया है। लोग सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे है, आगजनी-तोड़फोड़ की घटनाएं सामने आ रही है, वही विपक्ष कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रही है और न्यायिक जांच की मांग की जा रही है। इस गर्माई सियासत के इसी बीच कमलनाथ सरकार के मंत्री का बड़ा बयान सामने आया है। मंत्री का कहना है कि अपराध उत्तर प्रदेश में हुआ है। ये वहां की भाजपा सरकार की नाकामी है, उसे इस्तीफा दे देना चाहिए। 

दरअसल, घटना के बाद घटना उजागर होने के बाद मीडिया से चर्चा के दौरान प्रदेश कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि  उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश पुलिस का ज्वाइंट आपरेशन चल रहा था। अपराध उत्तर प्रदेश में हुआ है।उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार है, उसे इस्तीफा दे देना चाहिए।  ये वहां की भाजपा सरकार की नाकामी है।शर्मा ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मृतक बच्चों के पिता से फोन पर बात की। सीएम ने परिजनों को भरोसा दिलाया है कि सरकार उनके साथ खड़ी है। इस मामले में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया हैं। मामला फास्टट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा। 

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता जेपी धनोपिया ने कहा कि ये घटनाक्रम प्रदेश में 15 साल तक भाजपा सरकार रही इस वजह से हुआ। अपराध इतने बढ़ गए थे कि उन पर दो महीने में काबू पाना मुश्किल है। प्रदेश सरकार का इसमें कोई लेना-देना नहीं, पूरा मामला उत्तर प्रदेश का है, वहां भाजपा की सरकार है।

गौरतलब है कि यहां से 12 फरवरी को अगवा किए गए दो जुड़वां बच्चों शिवम और देवांग की शनिवार को हत्या कर दी गई। दोनों के शव उत्तरप्रदेश के बांदा में नदी के पास मिले। बताया जा रहा है कि अपहरणकर्ताओं ने 20 लाख की फिरौती मिलने के बाद भी बच्चों की हत्या कर दी।  दोनों बच्चों की उम्र 5 साल थी। वे छुट्टी के बाद चित्रकूट के स्कूल से सतना वापस आ रहे थे। उस दौरान बदमाशों ने स्कूल बस से अगवा कर लिया। पूरी वारदात बस में लगे सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई थी। फुटेज में बदमाश रिवॉल्वर दिखाकर बच्चों का अपहरण करते नजर आए थे। पुलिस के मुताबिक- बदमाशों ने पहले बंदूक दिखाकर बस को रुकवाया और फिर दोनों बच्चों को बस से उठाकर ले गए। बच्चे चित्रकूट के सद्गुरु ट्रस्ट के एसपीएस स्कूल में पढ़ते थे।