खजाना खाली और.. एयरक्राफ्ट लेने की तैयारी में कमलनाथ सरकार

The-treasury-is-empty-and----Kamal-Nath-government-in-preparation-for-taking-propeller-aircraft

भोपाल।

खजाना खाली है और सरकार के सामने वादों का अंबार लगा हुआ है। बावजूद इसके सरकार फिजूलखर्ची पर रोक लगाने के सरकार नए नए खर्चे किए जा रही है। सीएम हाउस रिनोवेशन के बाद कमलनाथ सरकार कमलनाथ अब प्रोपलर एयरक्राफ्ट खरीदने की तैयारी कर रही है।खबर है कि इसी माह शुरू से इसकी खरीदी प्रक्रिया शुरु हो जाएगी।राज्य सरकार ने 8 सीटर प्रोपलर एयरक्राफ्ट खरीदने का प्रस्ताव तैयार किया है। लोकसभा चुनाव से पहले टेंडर जारी होने की पूरी पूरी उम्मीद है।

दरअसल, बीते साल शिवराज सरकार ने जेट एयरक्राफ्ट खरीदने की तैयारी की थी, लेकिन विधानसभा चुनाव के चलते इस प्रस्ताव को टालते हुए एक साल के लिए जेट विमान किराए पर लिया गया था।जिसको लेकर विपक्ष में रही कांग्रेस ने जमकर हंगामा मचाया था और कांग्रेस का आरोप था कि खजाना खाली है और सरकार महंगे दामों वाले एयरक्राफ्ट खरीदने की तैयारी कर रही है। अब चुंकी प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है और मुख्यमंत्री कमलनाथ है तो सरकार ने फैसला लिया है कि वो  जेट विमान से लगभग आधी कीमत पर आने वाले प्रोपलर विमान को खरीदेगी, ताकी ज्यादा खर्चा ना हो।इन विमानों की  मेंटनेंस में भी खर्चा कम होता है।

वर्तमान में राज्य सरकार के ऊपर एक लाख 60 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का कर्ज है।लेकिन सत्ता में आने के बाद वित्तीय जरूरतों की पूर्ति के लिए  कमलनाथ सरकार अब तक तीन बार 3600 हजार करोड़ रुपए (तीन बार में 1600, 1000 और 1000) का कर्ज ले चुकी है। ऐसे में इससे राज्य पर फिर भार बढ़ना तय है।पहले से ही कर्ज में डूबी सरकार और कर्ज मे डूब सकती है।

बता दे कि फिलहाल मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री के विमान बेड़े में अभी तीन हैलीकॉप्टर और एक हवाई जहाज शामिल है। जरूरत पडऩे पर किराए के जेट प्लेन का इस्तेमाल भी किया जाता रहा है। पिछली सरकार कम समय में अधिक दूरी तय करने के लिए सरकार जेट को उपयोगी मानती रही है, लेकिन अब विचार बदले हैं। कमलनाथ सरकार ने जेट से बेहतर प्रोपलर एयरक्राफ्ट को माना। 


इन स्थानों पर लैंड किया जा सकता है प्रोपलर प्लेन

बताते चले कि जेट विमान के लिए लंबी हवाई पट्टी की आवश्यकता होती है।वर्तमान में प्रदेश की कुल 31 हवाई पट्टी में से केवल 8 हवाई पट्टियां ऐसी हैं जहां जेट उतारा जा सकता है। इनमें एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और खजुराहो में हवाई पट्टी एवं मंदसौर, रीवा और दतिया राज्य सरकार की हवाई पट्टियां शामिल हैं। प्रदेश की हर हवाई पट्टी पर प्लेन उतारा जा सके, इसे ध्यान में रखते हुए प्रोपलर प्लेन खरीदा जा रहा है।इसमे खास बात ये है कि  यह हर मौसम में अनुकूल होता है।

वर्तमान में ये विमान है राज्य सरकार के पास

– सुपर किंग बी-200 विमान एक – वर्ष 2002 में खरीदा गया था। इसकी बैठक क्षमता 7 यात्री तथा 2 पायलट है ।

– बैल-407 हेलीकॉप्टर (एक इंजिन वाला) – वर्ष 2003 में खरीदा गया था। इसकी बैठक क्षमता 4 यात्राी तथा 2 पायलट है ।

– इसी 155 बी1 हेलीकॉप्टर (दो इंजिन वाला) – वर्ष 2011 में खरीदा गया था। इसकी बैठक क्षमता 6 यात्राी तथा 2 पायलट है । 

– बैल-430 हेलीकॉप्टर (दो इंजिन वाला) – वर्ष 1998 में खरीदा गया था। इसकी बैठक क्षमता 6 यात्री तथा 2 पायलट है ।