कमिश्नर भोपाल की यह कार्रवाई बनी मिसाल

भोपाल

कोरोना संक्रमण के कारण चल रहे लॉकडाउन में जनता की समस्याएं लगातार सामने आ रही है । प्रशासनिक अधिकारियों पर कोरोना संक्रमण को रोकना एक बड़ी चुनौती तो है ही साथ ही साथ कानून व्यवस्था कैसे बनी रहे और आम जनता की बेहतरी हो यह भी अपने आप में एक बड़ा सवाल है। ऐसा नहीं यदि एक शिकायत पर पर कार्रवाई हो जाए तो आम जनता को लगता है कि प्रशासन और सरकार उसके साथ खड़ा है।

ऐसा ही वाकया सोमवार को भोपाल में सामने आया जब एक व्हाट्सएप ग्रुप पर जेके हॉस्पिटल के पास बने हुए जैन किराना व जनरल स्टोर की शिकायत ब्लैक मार्केटिंग को लेकर की गई । जब ग्राहक ने इस दुकानदार से कहा ऐसा क्यों कर रहे हो तो उसने कहा जहां शिकायत करना है कर दो ।प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार मनीष दीक्षित द्वारा इसे व्हाट्सएप में डाला गया और संयोग से उस ग्रुप में भोपाल की संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव भी सदस्य थीं । उन्होंने जैसे ही मैसेज पढ़ा, तुरंत टीम को वहां भेजा और शिकायत को सही पाते हुए दुकान से अधिक कीमत किराना बेचने, कालाबाजारी और बिना खाद्य रजिस्ट्रेशन व्यापार करने पर दुकान को सील कर दिया।यह कार्रवाई संभागायुक्त के निर्देशन पर खाद्य सुरक्षा विभाग और श्रम विभाग ने की। संभागायुक्त की इस कार्रवाई की पूरे शहर में न केवल प्रशंसा की जा रही है बल्कि लोगों का कहना है कि यदि अफसर ठान ले तो कुछ भी मुमकिन है।

कमिश्नर भोपाल की यह कार्रवाई बनी मिसाल