भोपाल। भोपाल में जिस तरह से लगातार कोरोना संक्रमितों के केस बढ रहे हैं| उसको देखते हुए प्रशासन और सरकार काफी सख्त नजर आ रही है| इस बात का अंदाजा इस बात से लग सकता है कि एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में मुख्यमंत्री शिवराज सिहं चौहान ने यह कहा है कि भोपाल, उज्जैन, इंदौर में 3 मई के बाद भी लॉकडॉउन रहेगा| लेकिन देखा गया है कि शहर की इतनी गंभीर हालत होने के बाद भी राजधानी के 30% लोग अपने घरों से केवल इसलिए निकल रहे हैं कि उन्हे गुटखा और सिगरेट चाहिए और जबकि हैरानी की बात कि गुटखा, सिगरेट, सुपाड़ी की दुकानों को खोलने के लिए सरकार ने मना कर दिया है| फिर जो दुकाने या विक्रेता चोरी-छिपे ये सामान बेच रहे हैं वो तय रेट से अधिक कीमत पर दे रह हैं और लोग खरीद रहे हैं|

इसलिए बढ गए पान मसाला के दाम
कोरोना के चलते शहर में पान मसाला बनाने वाली सभी कंपनियां बंद हैं, कुछ व्यापारियों ने लॉकडाउन से पहले बड़ी मात्रा में पान मसाला और सिगरेट का ऑर्डर दिया था| लेकिन बंद के चलते उनके पास ऑर्डर नही पहुंचा| जिसके बाद बाजार में जितना स्टॉक था उसकी कालाबाजारी शुरू हो गई|

नशा छोड़ने का सुनहरा मौक़ा
वहीं यह एक सुनहरा मौका है लोगों के पास जब लोग अपनी नशे की इस आदत से निजात पा सकते हैं| क्योंकि नशे का कोई भी सामान आसानी से बाजारों में नहीं मिल रहा है और जिन लोगों को बार-बार सिगरेट पीने की इच्छा रहती है वो बचने के लिए अपने मुंह को अन्य खाने की चीजों या निकोटीन के च्यूइंगम चबा कर व्यस्त रख सकते हैं|