ट्रैफिक सुधारने जहां से हटाई थी शहीद की प्रतिमा, वहां लगा दी पूर्व CM की मूर्ति, जमकर हंगामा

भोपाल।

राजधानी भोपाल में एक बार फिर मूर्ति विवाद को लेकर सियासत गरमा गई ।भोपाल के नानके पेट्रेल पंप पर जहां आज से तीन साल पहले भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक एवं लोकप्रिय स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को ट्रैफिक व्यवस्था का हवाला देते  हुए हटा दिया गया था, अब उसी जगह पर पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगा दी गई है।जिसको लेकर बीजेपी ने सवाल उठाना शुरु कर दिए है और आंदोलन की चेतावनी दी। वही कांग्रेस ने भी जमकर पलटवार किया है।

दरअसल,  ढाई साल पहले मार्च 2017 में नगर निगम ने अर्जुन सिंह के साथ भाजपा के पितृ पुरुष कुशाभाऊ ठाकरे और महाराज छत्रसाल की प्रतिमा बनाने का काम ग्वालियर के मूर्तिकार प्रभात राय को सौंपा था। मूर्ति बनकर तैयार हो चुकी है और चार दिन पहले ही सड़क मार्ग से भोपाल पहुंची है। करीब 14 लाख रुपए की लागत से बनी इस मूर्ति की हाईट करीब 10 फीट और वजन  करीब 800 किलाे है। यह मूर्ति लिंक राेड नंबर एक पर नानके पेट्राेल पंप तिराहे पर लगाई जानी है।  जिसको लेकर सवाल खड़े होना शुरु हो गए है, चुंकी इससे पहले भोपाल के नानके पेट्रोल पंप तिराहे पर अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा लगाई गई थी, जिसे तीन साल पहले निगम प्रशासन ने ट्रैफिक नियमों का हवाला देकर हटा दिया था। लेकिन अब उसी जगह पर पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की 10 फीट ऊंची प्रतिमा लगा दी गई है।हालांकि अभी तक  अनावरण नही किया गया है।11 नवबंर को इसका अनावरना होना था, लेकिन सुरक्षा को देखते हुए कार्यक्रम स्थगित कर दिया है।

बीजेपी ने उठाए सवाल, कांग्रेस ने दिया जवाब

इस पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सवाल खड़े किए है। शिवराज ने ट्वीट कर लिखा है कि महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ ऐसा कृत्य, मध्यप्रदेश शर्मिंदा है। इस दुस्साहस के लिए दोषियों को तत्काल कड़ी से कड़ी सजा और उचित सम्मान के साथ मां भारती के सपूत की प्रतिमा पुनः स्थापित हो, अन्यथा देश स्वयं को कभी माफ न कर सकेगा।वहीबीजेपी विधायक और पूर्व मंत्री विश्वास सारंग ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखा है और कहा है कि  ट्रैफिक व्यवस्था सुधार के लिए चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा हटाई गयी थी । यदि अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगेगी तो आंदोलन होगा। जिस पर कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने पलटवार करते हुए कहा है कि पता नहीं पूर्व सीएम शिवराज जी को आजकल सलाह कौन दे रहा है। बग़ैर तथ्य जाने,कुछ भी आरोप लगा देते है , कुछ भी tweet कर देते है। अब tweet कर रहे है कि महान क्रांतिकारी चन्द्रशेखर आज़ाद की भोपाल के लिंक रोड नं.1 पर से प्रतिमा हटाने का कृत्य , दुस्साहस किसने किया , प्रदेश शर्मिंदा है।

कौन है अर्जुन सिंह

अर्जुन सिंह एक भारतीय राजनेता थे और कभी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। इनके समय में 1984 में भोपाल में गैस त्रासदी हुई है। इसके अलावा वो केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री भी रह चुके हैं।अर्जुन सिंह के परिवार का नाता सीधी के चुरहट राज परिवार से है। वो राज्य के मुख्यमंत्री के साथ केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। पंजाब के राज्यपाल के तौर पर उनका कार्यकाल चर्चाओं में रहा। उनके पुत्र अजय सिंह सियासत में हैं. लोकसभा चुनाव में अजय सिंह पर कांग्रेस ने दांव लगाया था, मगर उनको हार मिली थी।